धोखाधड़ी की शिकार हुई महिला अकाउंट से दो लाख पार  

धोखाधड़ी

पखांजूर। कोयलीबेड़ा ब्लॉक के ग्राम जिरमतरई की दो महिलाओं धोखाधड़ी के शिकार हुए महिलाओं ने मत्स्य विभाग के नीलक्रांति योजना के तहत तालाब खनन के लिए निकले थे पैसे और बैंक खाते से दो-दो लाख रुपये निकाल लिए गए और जब मोबाइल पर मैसेज आया तब उन्हें इसकी जानकारी हुई। जिसके बाद अपने नाती के साथ जब दोनों महिलाएं बैंक पहुंची तो बैंक प्रबंधन ने कहा कि एटीएम से राशि का आहरण किया गया है।

नीराबाई नेताम व लीलाबाई नेताम ने बताया कि उन्हें मत्स्य विभाग के नीलक्रांति योजना की जानकारी मिली थी, जिसके तहत तालाब खनन के लिए विभाग की ओर से हितग्राहियों को दो लाख अस्सी हजार रुपये की सब्सिडी दिए जाने का प्रावधान है। प्रकरण तैयार होने के बाद मानस नामक युवक शुक्रवार पांच अप्रैल को उनके घर आया और सब्सिडी की राशि के लिए बैंक में खाता खुलवाने की बात कही।जिस पर नीराबाई ने उसे बताया कि उनका खाता पहले से ही बैंक में है।

जिस पर मानस ने उन्हें कांकेर में खाता खुलवाने की बात कही और अपनी कार में नीराबाई, लीलाबाई व लीलाबाई के नाती रोहित कुमार नेगी को कार में लेकर कांकेर पहुंचा। जहां एक्सिस बैंक के एक कर्मचारी ने नरहरदेव मैदान ले जाकर उनका बैंक खाता खोला। नीराबाई व लीलाबाई का कहना है कि बैंक खाता खुलने के बाद न तो उन्हें पासबुक दिया गया और न ही एटीएम कार्ड।

वहीं हितग्राही नीराबाई के पुत्र अक्षय कुमार ने बताया कि योजना की जानकारी होने के बाद वह पखांजूर में एक इंजीनियर से मिला था और इस संबंध में जानकारी दी थी। इंजीनियर ने प्रकरण तैयार करने और पूरा काम कराने के एवज में उन प्रति हितग्राही दस हजार रुपये की दर से तीन हितग्राहियों के तीस हजार रुपये लिए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *