बीएसपी के द्वारा मंदिर तोड़ने को लेकर बीएसपी इंफोर्समेंट विभाग के अधिकारियों पर एफ आई आर दर्ज। पुलिस कभी भी कर सकती है अधिकारियों की गिरफ्तारी

पुलिस कभी भी कर सकती है अधिकारियों का गिरफ्तारी

 

भिलाई के सेक्टर 8 ग्राउंड में कई सालों से चबूतरा बनाकर भगवान हनुमान जी का लोगों द्वारा पूजा किया जाता था, बीएसपी के आला अधिकारियों ने अवैध कब्जा बता कर उसे तोड़ दिया, हिंदू संगठनों द्वारा उग्र प्रदर्शन करने के बाद अब बीएसपी के अधिकारियों पर पुलिस प्रशासन एफआईआर दर्ज किया है। दरअसल मामला 16 जुलाई को सेक्टर-8 पेट्रोल पंप के पीछे शिव हनुमान मंदिर में तोड़फोड की थी। स्थानीय लोग नीम व पीपल पेड़ के नीचे प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना करते थे उस स्थल को बीएसपी के तोड़फोड़ विभाग ने अवैध कब्जा बताते हुए तोड़ दिया था। घटना का वीडियो भी सामने आया जिसमें बीएसपी कर्मी चबूतरा तोड़ते दिख रहे हैं। इस घटना के बाद शहर के हिन्दूवादी संगठनों में उबाल देखने को मिला।इस मामले में पुलिस ने पहले तो अपराध दर्ज नहीं किया। क्योंकि बीएसपी इंफोर्समेंट विभाग के कर्मी मंदिर तोड़ने की बात मान ही नहीं रहे थे। लेकिन जब इसका वीडियो सामने आया तो बीएसपी कर्मियों के खिलाफ जांच शुरू हुई। बुधवार देर रात इस मामले में भिलाई नगर पुलिस ने धारा 295 के तहत अपराध दर्ज किया, जो कोई किसी उपासना के स्थान को या व्यक्तियों के किसी वर्ग द्वारा पवित्र मानी गई किसी वस्तु को नष्ट, नुकसानग्रस्त या अपवित्र करता है। किसी वर्ग के धर्म या धार्मिक स्थल को अपमानित किया जाता है। पवित्र व पूजा पाठ वाले स्थलों को नुकसान पहुंचाता है तो ऐसे मामलों में धारा 295 के तहत अपराध दर्ज किया जाता है। यह धारा गैर जमानती धारा है। वहां के रहवासियों का कहना है कि बीएसपी के अधिकारियों द्वारा जबरदस्ती मंदिर बने स्थान को तोड़ दिया गया ।

 

बीएसपी के अधिकारियों द्वारा जबरदस्ती मंदिर बने स्थान को तोड़ दिया गया