मतदान कर्मचारियों की लापरवाही…VVPAT से होगी 56 बूथों के वोटों की गणना…मनेंद्रगढ़ के सबसे पहले और कवर्धा के नतीजे आखिरी में आ सकते हैं…

रायपुर। मॉकपोल के बाद डाटा डिलीट नहीं करने वाले 56 बूथों के वोटों की गिनती वीवीपैट पर्चा से की जाएगी। इन बूथों में मतदान कर्मचारियों की लापरवाही के कारण ईवीएम से डाटा डिलीट करना भूल गए थे। जिस वजह से मतदान के बाद वोटों के आंकडों में अंतर आया था। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने शुक्रवार को पत्रकारवार्ता लेकर इसकी जानकारी दी। इसके अलावा प्रदेश के सभी 90 विधानसभाओं के एक-एक बूथ की भी वीवीपैट पर्चियों से गिनती होगी।

सीइओ श्री साहू ने कहा कि ईवीएम सभी स्ट्रांग रूम में सुरक्षित है। कही भी कोई गड़बड़ी नहीं हुई है। ईवीएम हैक होने की आशंकाओं को उन्होंने पूरी तरह से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि स्ट्रांग रूम में रखे ईवीएम को लैपटॉप से हैक नहीं किया जा सकता है। ईवीएम बदले जाने के कांग्रेस के आरोपों पर उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों के एजेंटों के पास ईवीएम के कोड की जानकारी होती है। गिनती के समय वे इसका मिलान कर सकते हैं। कोड का नम्बर गलत होने पर वे आपत्ति कर सकते हैं।

श्री साहू ने बताया कि हर विधानसभा क्षेत्रों के मतगणना के लिए14 टेबल लगाए जाएंगे। इसमें सबसे अधिक 30 चरणों में कवर्धा और सबसे कम 11 चरणों में मनेंद्रगढ़ सीट के मतों की गिनती होगी। मनेंद्रगढ़ के नतीजे सबसे पहले और कवर्धा के नतीजे सबसे आखिरी में आ सकते हैं।

उन्होंने बताया कि आचार संहिता लागू होने के बाद काम में लापरवाबी बरतने वाले कुल 206 अधिकारियों और कर्मचारियों पर कार्रवाई की गई है। इनमें से पांच को बर्खास्त करने के बाद 114 अधिकारी-कर्मचारियों को निलंबित किया गया है। वहींं 63 को कारण बताओ नोटिस दिया गया है।

निर्वाचन आयोग द्वारा इस बार मतदान कर्मचारियों को वोटिंग शुरू होने से पहले मशीनों को जांचने के लिए मॉकपोल करने निर्देश दिया गया था। मॉकपोल में 50 वोट डालने कहा गया था। बाद में इसे डिलीट करने के बाद वोटिंग शुरू करनी थी।

लेकिन 56 बूथों के कर्मचारियों ने लापरवाही बरते हुए डाटा को डिलीट नहीं किया था। वोटों के आंकडे में अंतर आने के बाद राजनीतिक दलों ने इसका विरोध किया था। इन बूथों पर अगर हार-जीत का अंतर 100 से कम मतों से होती है तो यहां विवाद की स्थिति निर्मित हो सकती है। ऐसे में इन 56 बूथों में वीपीपैट पर्ची बड़ा असर डाल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *