Exclusive यागवल्क मिश्रा पर 5 अपराध 17 धाराएं

रायपुर|भारतीय निर्वाचन आयोग ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि लोकसभा के उम्मीदवार मीडिया के जरिए अपने आपराधिक रेकॉर्ड की जानकारी नागरिकों को दें।लेकिन,बड़े अचरज़ की बात है कि आपराधिक रेकॉर्ड वाले लोग ही राजधानी,रायपुर में पत्रकार बन बैठे हैं।ग्रैंड न्यूज़ चैनल सुधी पाठकों को जनहित में बता देना चाहता है कि अम्बिकापुर निवासी  यागवल्क मिश्रा के खिलाफ कई थानों में अपराध दर्ज है।

बलरामपुर के जयशंकर प्रसाद की शिकायत के मुताबिक,यागवल्क मिश्रा की पत्नी ने भी फ़र्जी सर्टिफिकेट के दम पर नॉकरी पा ली थी।श्री प्रसाद की शिकायत के ही मुताबिक,कलेक्टर सरगुजा पत्र नम्बर,15934 जारी दिनांक 5 फरवरी 2010 सुरभि मिश्रा पति यागवल्क मिश्रा के खिलाफ जुर्म दर्ज होना चाहिए।ग्रैंड न्यूज़ चैनल के सूत्रों के मुताबिक,सुरभि मिश्रा ने फ़र्जी सर्टिफिकेट के दम पर शिक्षाकर्मी वर्ग 3 की नॉकरी हथिया ली थी.

बलरामपुर निवासी जयशंकर प्रसाद ने रायपुर के मीडिया हाउसेस,मंत्रियों,समेत आईएएस,आईपीएस को भी यागवल्क मिश्रा के कारनामों से जुड़ी शिकायत भेजी है।श्री प्रसाद ने आरोपी,मिश्रा की फ़ोटो के नीचे लिखा है-फरार अपराधी,कथित पत्रकार,ब्लैक मेलर।जयशंकर प्रसाद के ही मुताबिक, यागवल्क मिश्रा ने 3 अक्टूबर 2004 को तत्कालीन,मंत्री रामविचार नेताम की शासकीय कार CG 02 / 5009 को आग हवाले कर दिया था

यागवल्क मिश्रा इस मामले में आज तक पुलिस के द्वारा गिरप्तार ही नहीं किया गया!थानों में दर्ज प्राथमिक सूचना रिपोर्ट्स की माने तो यागवल्क मिश्रा आदतन अपराधी है।यागवल्क ने अकेले,साथियों और समूह के साथ मिलकर अपराध किए हैं।Grand news channel,जनहित में यागवल्क मिश्रा के खिलाफ दर्ज मामलों की पूरी कहानी,आप सबों के सामने रख दे रहा है।साल 2005 जिला सरगुजा थाना पोंडी, धारा-406 और 420 ।थाना- बांगो,जिला कोरबा। तिथि-6 अप्रैल 2009 धारा-294,506,34.इस तिथि के अपराध में यागवल्क मिश्रा पिता,प्रकाश चन्द्र मिश्रा के साथ ही शैलेन्द्र विश्वकर्मा,निवासी अम्बिकापुर और दो अन्य लोग आरोपी हैं।इसी तरह,3 अक्टूबर 2004 को कमलेश गुप्ता,अशोक गुप्ता,धर्म पॉल जायसवाल और यागवल्क मिश्रा एवं अन्य साथियों के खिलाफ मामला दर्ज है,धारा लगाई है पुलिस ने 394।थाना-चलगली, साल 2004,धाराएं-147,148,149,435 एवम 341 IPC,इस मामले में आरोपियों की संख्या 17 है, यागवल्क मिश्रा का नाम 12 वें नम्बर पर है।

थाना- सदर,अम्बिकापुर,जिला सरगुजा। 294,506,323,342,507,365 पंजीबद्ध है।यागवल्क मिश्रा के खिलाफ अम्बिकापुर और बलरामपुर में कई मामले दर्ज हैं।मग़र,कमाल देखिए,वह शस्त्र लाइसेंस पाने में भी कामयाब रहा है।यागवल्क ने साल 2011 में शस्त्र लाइसेंस पा लिया है,27 जनवरी 2011 को 315 बोर रायफल के नाम शस्त्र लाइसेंस जारी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *