फर्जी डिग्री-शिक्षक भर्ती घोटाला: तत्कालीन जनपद सीईओ गिरफ्तार, फर्जी डिग्री से कई लोगों को शिक्षाकर्मी की नौकरी लगाने का आरोप,


धमतरी। फर्जी डिग्री मामले में मगरलोड के पूर्व जनपद सीईओ कमलाकांत तिवारी को धमतरी पुलिस ने भिलाई से गिरफ्तार किया है। कमलाकांत तिवारी को उनके गृहग्राम से सोमवार के तड़के सुबह 3 बजे पकड़ा गया। इस गिरफ्तारी के बाद छानबीन समिति के सदस्यों में हड़कंप मच गया है।

मालूम हो कि ये मामला 2007 का है। तत्कालीन जनपद पंचायत मगरलोड पर शिक्षाकर्मी वर्ग 3 की भर्ती की गई थी। इस भर्ती प्रक्रिया में छानबीन और चयन समिति पर भारी अनियमितता बरतने का आरोप भी लगा था। आरोप ये भी था कि कई लोगों को फर्जी डीग्री के माध्यम से उन्हें शिक्षाकर्मी के पद पर नौकरी दे दी गई।

आरटीआई कृष्णा कुमार साहू की रिपोर्ट पर मगरलोड थाने में 2011 को अलग अलग अपराध क्रमांक 117 और 123 दर्ज किया गया था। फर्जी डिग्री मामले में उस समय पदस्थ कई शिक्षाकर्मियों की गिरफ्तारी भी हुई थी। लेकिन छानबीन समिति पर कोई कार्रवाई नहीं हुई थी, जिसके बाद आरटीआई कृष्णा साहू ने इसकी शिकायत सीआईडी में की थी।

लंबे समय तक चली जांच के बाद सीआईडी ने पिछले दिनों एसपी प्रशांत ठाकुर को कार्रवाई के निर्देश दिये थे। एसपी ने मगरलोड थाना प्रभारी और एसडीओपी को आरोपी तत्कालीन सीईओ कमलाकांत तिवारी को गिरफतार करने के निर्देश दिये। धमतरी पुलिस ने कार्रवाई करते हुये कमलाकांत तिवारी को भिलाई से गिरफ्तार किया गया।

उक्त कार्यवाही में थाना प्रभारी निरीक्षक प्रणाली वैद्य,थाना प्रभारी मगरलोड श्री राजेश जगत चौकी करेली बड़ी प्रभारी दीपा केंवट एवं सउनि. दिनेश सोनकर का विशेष योगदान रहा।