काजू प्रसंस्करण यूनिट के सदस्य रवाना, सिंगापुर में ग्रिट अवॉर्ड लेने के लिए बकावण्ड के….

काजू प्रसंस्करण यूनिट के सदस्य रवाना, सिंगापुर में ग्रिट अवॉर्ड लेने के लिए बकावण्ड के…

JAGDALPUR :- नील आर्मस्ट्रांग ने चांद पर पहला कदम रखते हुए कहा था ‘यह मानव के लिए एक छोटा कदम है, किन्तु मानवता केे लिए एक लंबी छलांग है’ उनकी यह उक्ति आज लघु वनोपज संघ से संबद्ध महिला स्व सहायता समूह की उन सदस्यों पर चरितार्थ हो रही है !

जो ईएसजी के ग्लोबल समिट में ग्रिट अवार्ड लेने के लिए सिंगापुर रवाना होने के लिए विमान में सवार हो रही थी।

छत्तीसगढ़ राज्य बनने के उपरांत संभवतः यह पहला अवसर है, जब महिला स्व-सहायता समूह की सदस्य, एक अंतर्राष्ट्रीय प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त करने के लिए विदेश यात्रा पर जा रही है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर, वनमंत्री मोहम्मद अकबर के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ के वन धन विकास केन्द्रों में लघु वनोपज के प्रसंस्करण कार्य में लगी महिला सदस्यों की समर्पित कार्य प्रणाली का परिणाम है ! इस अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए उनकी पहचान हुई है।

सिंगापुर के लिए भरी गई यह उड़ान उनकी आकांक्षाओं और सपनों की ऊंची उड़ान है। बकावंड वन धन केन्द्र की सदस्य सुश्री पद्मनी बघेल

तथा सुश्री बेलाबाई कश्यप तथा डोंगानाला वनधन केन्द्र की सदस्य सुश्री सरोज पटेल तथा सुश्री फूल बाई नेती के विमान को एक बड़ी भीड़ ने जब हाथ हिला कर रवाना किया, तो पूरे छत्तीसगढ़ तथा विशेषकर कोरबा तथा बस्तर जिलों में हर्ष की लहर दौड़ गई।

वन धन विकास के सदस्यों की यह उड़ान, ऐसी सैकड़ों महिलाओं और वनवासियों की आशाओं की उड़ान है। छत्तीसगढ़ के ये उल्लासित वनवासी प्रतिनिधि 150 देशों के 200 से अधिक प्रतिनिधियों के समक्ष यह पुरस्कार ग्रहण करते हुए, छत्तीसगढ़ माॅडल तथा सतत् विकास की कहानी भी सुनाएगी।