जगदलपुर शहर में रोका छेका अभियान बे असर

JAGDALPUR :- जगदलपुर के नगरीय क्षेत्र में जगह-जगह मवेशियों ने सड़कों पर डेरा जमा रखा है, राज्य सरकार ने रोका छेका  अभियान के तहत शहरी क्षेत्रों में भी गोठान का निर्माण कर

यहां मवेशियों को रखने का इंतजाम किया है जगदलपुर में भी 42 लाख रुपए की गोठान बनाई गई है लेकिन यहां सिर्फ 10 मवेशी हैं जबकि शहर की सड़कों में सेकडो मवेशी नजर आते है।

शहर में रोका छेका अभियान का असर कहीं भी दिखाई नहीं दे रहा है अभियान शुरू होने के बाद इसे अमल में लाने में नगरीय निकाय ढिलाई बरत रहे हैं.

आलम यह है कि ज्यादातर मुख्य सड़कों के साथ-साथ अंदरूनी इलाकों में भी सड़कों पर बड़ी संख्या में मवेशी बैठे दिखाई देते हैं, जबकि 42 लाख रुपए की लागत से बनाए गए गोठान में मवेशी ना के बराबर हैं यह गोठान परपा में बनाया गया है।

इस गोठान के संचालन का जिम्मा महिला स्व सहायता समूह को दिया गया है, लेकिन अब इसे फिर से बदलकर एक नई एजेंसी को संचालन की जिम्मेदारी दी गई है.

लेकिन नई एजेंसी ने भी काम शुरू नहीं किया है लिहाजा शहर से मवेशियों को गोठान ले जाया जा नहीं रहा है . मवेशियों की सड़कों पर मौजूदगी से हादसे की आशंका भी बनी रहती है

रात के वक्त कई बार लोग हादसों के शिकार भी हो चुके हैं दूसरी तरफ निगम का कहना है कि अभियान में काम किया जा रहा है और जल्द ही शहर की सड़कों को मवेशी मुक्त बनाया जाएगा

पिछले दिनों इसी सिलसिले में पालतू पशुओं को पहचान कर मालिकों पर जुर्माना भी लगाया गया है जिन्होंने सड़कों पर मवेशी को छोड़ दिया था।