भारत’ इस शब्द में एक ऐसी समता और एकता फैली हुई है, जो भिन्न-भिन्न जातियों, धर्मो और संप्रदायों को एक धागे में पिरोती है। भारत देश 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था। इस दिन को हर साल जोश और उत्साह के साथ पूरे देशभर में मनाया जाता है। आज हम जिस आजादी को जी रहे हैं, खुली हवा में सांस ले रहे हैं उसका श्रेय हमारे स्वंतत्रता सेनानियों को जाता है।

जिन्होंने देश को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ न्योछावर कर डाला। आजादी का जश्न मनाने के साथ हम इस दिन अपने वीर सेनानियों के प्रति सम्मान और कृतज्ञता भी समर्पित करते हैं। इसके साथ ही देश के प्रति अपने कर्तव्यों और देशभक्ति का महत्व समझने के लिए भी स्वतंत्रता दिवस हम सबके लिए बहुत मायने रखता है.
इस साल स्वतंत्रता दिवस और भी खास है, क्योंकि हम आजादी की 75वीं सालगिरह मनाने जा रहे हैं, जिसे यादगार बनाने के लिए भारत सरकार ने ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत ‘हर घर तिरंगा’ अभियान का एलान किया है। जिसमें 13 से 15 अगस्त तक देश भर में 20 करोड़ घरों पर राष्ट्रीय झंडा ‘तिरंगा’ फहराने का लक्ष्य रखा गया है। वहीं इसके साथ ही देश-भर में ‘हर घर तिरंगा’ के तहत जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं.

असम में CRPF के जवानों ने निकाली ‘हर घर तिरंगा यात्रा’

असम में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने पुलिस के साथ मिलकर लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए एक ‘तिरंगा यात्रा’ निकाली। इस रैली में लगभग 150 सैन्य कर्मियों की भागीदारी देखी गई।

सीआरपीएफ कमांडेंट शिव शंकर उपाध्याय ने कहा, ‘हर घर तिरंगा’ भारत की आजादी के 75 वें वर्ष को चिह्नित करने का एक अभियान है। मैं सभी से अनुरोध करता हूं कि ‘हर घर तिरंगा’ अभियान को 13-15 अगस्त के बीच अपने घरों में राष्ट्रीय ध्वज फहराकर या प्रदर्शित करके जन आंदोलन में बदल दें.

तिरंगे के रंग में रंगा मेरठ

उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में हर घर तिरंगा उत्सव का हिस्सा बनने के लिए तमाम संगठन व संस्थाओं ने कार्यक्रमों का आयोजन शुरू किया है। शनिवार को ही शहर से लेकर देहात तक तमाम कार्यक्रमों का आयोजन किया गया और तिरंगा फहराया गया। संगठनों ने लोगों को तिरंगा लगाने और बांटने के लिए भी प्रेरित किया।

ग्वालियर में स्कूली छात्रों ने निकाली ऐतिहासिक तिरंगा यात्रा

मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में बीते शनिवार को ऐतिहासिक तिरंगा यात्रा निकाली गई। स्कूली बच्चों ने 1,111 मीटर लंबे राष्ट्रध्वज को लेकर महाराज बाड़ा से फूलबाग चौराहे तक लगभग पांच किलोमीटर लंबी इस तिरंगा यात्रा निकाली। इस यात्रा में 1500 बच्चे शामिल हुए