बिलासपुर।आजादी का 75 वा वर्षगांठ बिलासपुर कोनी रोड पर स्थित आधारशिला विद्या मंदिर ने पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया l “आजादी के अमृत महोत्सव” के अवसर पर विद्यालय के प्रांगण में तिरंगा शान से लहराया गया l इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शहर की वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ (MBBS,DGO) डॉ. नम्रता सिंह, रिटायर्ड सी.एम.एस , एस.ई.सी.एल उपस्थित रही। डॉ.नम्रता सिंह को क्रिकेटर रोहित शर्मा द्वारा “मध्य भारत की सर्वश्रेष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ अवार्ड” से तथा दिल्ली की भूतपूर्व माननीय मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित के द्वारा “ग्लोरी ऑफ इंडिया अवार्ड” से सम्मानित किया गया है।

सर्वप्रथम मुख्य अतिथि डॉ.नम्रता सिंह एवं विशिष्ट अतिथि श्रीमती नीतू श्रीवास्तव के द्वारा ध्वजारोहण के पश्चात राष्ट्रगान गाकर तिरंगे को सलामी दी गई l भारत माता के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर सभी अतिथियों का विद्यालय के चेयरमैन डॉ.अजय श्रीवास्तव द्वारा ‘सैप्लिंग’ देकर स्वागत किया गया एवं इसी के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम आरंभ करने की औपचारिकता पूरी की गई। छात्रों द्वारा प्रस्तुत किए गए रंगारंग कार्यक्रम ने आस पास के वातावरण को देशभक्ति व देशप्रेम मे रंग दिया ।
कक्षा पहली व दूसरी के नन्हें मुन्ने बालकों ने फैंसी ड्रेस में स्वतंत्रता सेनानिनियों की याद दिलाई | इसके साथ हीं देशभक्ति व सामाजिक एकता का संदेश देते नृत्य व गीतों के प्रस्तुतिकरण भी किया गया | कुछ छात्र व छात्राओं ने हिंदी व अंग्रेजी मे भाषण देकर अपने विचारों को सबके सम्मुख रखा, इन बच्चों के आत्मविश्वास व देशप्रेम ने सभी दर्शकों को आश्चर्यचकित किया।

कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि डॉ. सिंह ने अपने उद्बोधन मे छात्रो से रूबरू होकर उन्हें आजादी का महत्व समझाया, उन्हें देश का भविष्य बताते हुए देश के प्रति उनके दायित्वों से अवगत कराया। एक डॉक्टर होने के नाते उन्होंने बच्चों से स्वास्थ्य संबंधी विभिन्न जानकारियां भी साझा किया। इसके साथ ही उनके उज्जवल भविष्य की कामना भी की। विद्यालय के चेयरमैन डॉ.अजय श्रीवास्तव ने छात्रों के प्रस्तुतिकरण की खूब सराहना करते हुए उन्हें स्वयं के भीतर छुपे हुनर को समझने तथा अपनी रूचि को पहचानकर उस क्षेत्र मे आगे बढ़ने की सलाह दी।उन्होंने उन्नति के मार्ग पर आने वाली परेशानियों को चुनौती की तरह अपनाने की बात की | उन्होंने ऐसे कई महापुरूषों के उदाहरण दिए जिन्होंने विपरीत परिस्थितियों का डटकर सामना कर स्वयं को पूरे विश्व के सामने श्रेष्ठ साबित किया है।शाला के डॉयरेक्टर श्री एस.के.जनास्वामी ने मंच पर आकर बच्चों के इस अद्भुत कला प्रदर्शन की जमकर तारीफ की,उन्होंने कहा कि किसी भी भारतीय के मन मे देशप्रेम व देशभक्ति की भावना केवल दिन विशेष नहीं होना चाहिए | यह तो प्रत्येक व्यक्ति के भावों एवं विचारों के साथ हमारे रक्त के कणों मे कर्तव्य बनकर दौड़ना चाहिए। यदि हम सभी अपने अपने दायित्वों का निर्वाहन ईमानदारी के साथ करें तो भारत को विश्व गुरु बनने से कोई नहीं रोक सकता। इसके साथ ही विद्यालय की प्राचार्या जी.आर. मधुलिका ने अपने अमूल्य वचनों से छात्रों को लाभान्वित करते हुए बताया कि जीवन मे आगे बढ़ते रहने के लिए किताबी ज्ञान के साथ दुनियाबी जानकारी और अपनी संस्कृति से जुड़ाव भी अत्यंत आवश्यक है | जो व्यक्ति अपनी मिट्टी से सदैव जुड़ा रहता है वह व्यक्ति कभी असफल नहीं होता। कार्यक्रम के अंत मे कक्षा 8वीं की छात्रा हर्षिता पांडेय द्वारा समस्त अतिथियों आभार प्रकट कर कार्यक्रम के समापन की घोषणा की गई एवं छात्रों को मिष्ठान वितरण कर कार्यक्रम का समापन किया गया।