प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को गुजरात के अहमदाबाद में साबरमती नदी पर पैदल यात्रियों के लिए अटल पुल का उद्घाटन किया। पिछले दो दिनों से यह पुल अपनी खासियतों को लेकर चर्चा में है। इस पुल को बनाने में करीब 2600 मीट्रिक टन स्टील पाइप का इस्तेमाल किया गया है। आइए जान लेते हैं इस फुट ओवर ब्रिज की और क्या-क्या खासियत है।

आकर्षक डिजाइन और एलईडी रोशनी से सुसज्जित यह पुल लगभग 300 मीटर लंबा और 14 मीटर चौड़ा है तथा रिवरफ्रंट के पश्चिमी छोर पर फूलों के बाग और पूर्वी छोर पर बन रहे कला और संस्कृति केंद्र को जोड़ता है। पैदल यात्रियों के अलावा, साइकिल चालक भी इस पुल का उपयोग नदी पार करने के लिए कर सकते हैं। इस पुल को तैयार करने में 2,600 मीट्रिक टन स्टील पाइप का उपयोग किया गया है और रेलिंग कांच एवं स्टील से बनाई गई है।

74 करोड़ रुपए में बन कर तैयार हुआ

फुट ओवर ब्रिज का निर्माण अहमदाबाद नगर निगम द्वारा किया गया है। पुल को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि लोग नदी के निचले और ऊपरी दोनों रास्तों या रिवरफ्रंट के सैरगाह से इस तक पहुंच सकें। 300 मीटर लंबे इस फुट ओवर ब्रिज को 74 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया गया है। इस ब्रिज को बनाते समय छोटी से छोटी बातों का भी ख्याल रखा गया है। ब्रिज के पास कैफेटेरिया और लोगों के बैठने की अच्छी व्यवस्था की गई है।

रात में बेहद सुंदर दिखता है नजारा

एलईडी की वजह से रात में यह फुट ओवर ब्रिज बेहद सुंदर नजर आता है। इसकी कई तस्वीरें भी सामने आईँ हैं जिसमें आप देख सकते हैं कि रात के समय यह ब्रिज कैसा दिखता है। इस पुलि के बन जाने की वजह से लोग रिवरफ्रंट का और अच्छे से आनंद ले सकते हैं। इस ब्रिज की एक और यह भी खासियत है कि इसका डिजाइन कुछ ऐसा है कि दिखने में यह पतंग के आकार का दिखता है। इसमें लगी पाइपों को इस तरह से जोड़ा गया है कि अंदर से पतंग का डिजाइन उभरता है।