आईटी की दिग्गज कंपनी विप्रो ने अपने 300 कर्मचारियों की छुट्टी कर दी है. आरोप है कि ये कर्मचारी विप्रो में रहते हुए दूसरी कंपनी( company) के लिए भी काम कर रहे थे. विप्रो के कार्यकारी अध्यक्ष रिशद प्रेमजी ने कहा, यह बहुत आसान है।

Read more : JOB ALERT : क्या आप भी सरकारी नौकरी की ख्वाहिश रखते है, अब इस उम्र तक कर सकेंगे आवेदन

रिपोर्टस के मुताबिक, विप्रो ने मूनलाइटिंग को लेकर कुछ दिन पहले ही चेतावनी( precaution) जारी की थी. मूनलाइटिंग का मतलब है एक समय में एक से ज्यादा काम करना. अभी ज्यादातर कंपनियों में वर्क फ्रॉम होम चल रहा है. इससे कई कर्मचारी इस तरह का काम कर रहे हैं. कंपनी ने कर्मचारियों को भेजे ई-मेल में कहा है, दो जगहों पर काम करने या ‘मूनलाइटिंग’ की अनुमति नहीं है. मेल में कहा गया।

आईबीएम ने पिछले हफ्ते स्पष्ट किया

भारत में मूनलाइटिंग को लेकर हंगामे के बीच, क्लाउड प्रमुख आईबीएम( IBM) ने पिछले हफ्ते स्पष्ट किया कि यह प्रथा नैतिक नहीं है और कंपनी कार्यस्थल पर इस तरह के व्यवहार को बढ़ावा नहीं देती है. आईबीएम इंडिया के प्रबंध निदेशक संदीप पटेल ने कहा कि कंपनी की स्थिति बिल्कुल देश में समग्र उद्योग की है।