आज 23 सितंबर ( september)को दिन और रात बराबर हो जाएंगे। दोनों का समय 12-12 घंटे का होगा। इसके बाद से दिन छोटे और रातें लंबी होनी शुरू हो जाएंगी। यही स्थिति 21 मार्च को भी होती है।

Read more : National Conference of Environment: पीएम मोदी आज राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन को करेंगे संबोधित, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

इसकी दिशा उत्तर से दक्षिण रहती है। अपनी धुरी पर 23.5 डिग्री झुकी पृथ्वी सूर्य के चक्कर लगा रही है। 21 मार्च और 23 सितंबर को पृथ्वी की भूमध्य रेखा बिल्कुल सूर्य के सामने पड़ती है, जिससे दिन और रात बराबर हो जाते हैं। इसके बाद सर्दियों के आने की आहट शुरू हो जाती है। दिन छोटे जबकि रातें लंबी होती हैं। 21 मार्च के बाद से गर्मी दस्तक देती है। दिन लंबे और रातें छोटी हो जाती हैं।

22 दिसंबर और 21 जून का महत्व( importance) 

22 दिसंबर और 21 जून की तारीख भी बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है। 21 जून को दक्षिणी ध्रुव सूर्य से सबसे अधिक दूरी पर रहता है। सूर्य की अधिकतम दूरी के कारण सबसे बड़ा दिन होता है, लेकिन इसके विपरीत 22 दिसंबर के दिन सूर्य दक्षिणायण से उत्तरायण की ओर रहता है