भानुप्रतापपुर : Bhanupratappur by-election : प्रदेश में होने वाले उपचुनाव को लेकर सभी प्रत्याशियों ने अपनी चुनाव प्रचार शुरू कर दी है। इसी बीच गांव-गाव जाकर कांग्रेस के प्रचार अभियान की कमान संभाल रहे मंत्री कवासी लखमा को बोगर गांव में असहज स्थिति का सामना करना पड़ा।

इन्हें भीं पढ़े : CG ByElection : भानुप्रतापपुर उपचुनाव के लिए भाजपा ने जारी की 40 स्टार प्रचारकों की सूची

मंत्री लखमा ने जैसे ही माइक थामकर कुछ बोलने का प्रयास किया, उसी वक्त गांव का सरपंच वहां पहुंचा और आदिवासी आरक्षण के मुद्दे को लेकर सीएम के खिलाफ नारेबाजी करने लगा।

सरपंच आदिवासी आरक्षण में कटौती के मुद्दे पर खुद को कांग्रेस पार्टी से नाराज बता रहा था। उसने मंत्री लखमा से अपने पुराने संबंध भी बताया। उसने कहा कि मंत्री के साथ वह कई स्थानों पर जा चुका है। मंत्री लखमा ने सरपंच को समझाइश देने की कोशिश की, लेकिन उसने मंत्री की बात नहीं मानी।

इन्हें भीं पढ़े : CG ByElection : कांग्रेस और भाजपा दोनों दलों ने किया जीत का दावा, आदिवासी समाज ने दोनों प्रमुख दलों का जायका बिगाड़ा

आक्रोशित सरपंच उनकी कोई बात नहीं सुनता। सावित्री मंडावी की समझाइश पर सरपंच शांत हुआ, प्रत्याशी  कहा की मंत्री लखमा भी मेरे साथ जा रहे हैं, वहां आरक्षण के मसले पर जरूर अपनी बात रखेंगे।

उन्होंने कहा कि आरक्षण का मसला हल नहीं कर पाए तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। मंडावी की बातें सुनने के बाद सरपंच के तेवर कुछ नरम पड़ते दिखाई दिए। हालांकि इससे पहले वह सभास्थल पर काफी हंगामा मचा चुका था।