CG NEWS : रायपुर। भाजपा के नए प्रभारी ओमप्रकाश माथुर ने पहली ही बैठक में सभी पदाधिकारियों को कहाँ- उन्हें सोशल मीडिया की राजनीति पसंद नहीं है। सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया, कहीं बैठक लेने गए, मीडिया में खबरें आ गईं, वाट्सएप पर शेयर कर दिया। यह सब उन्हें पसंद नहीं, माथुर ने कहा कि बड़े आंदोलन और उसमें जुटने वाली भीड़ भी सफलता का पैमाना नहीं हो सकता। एक मंडल में आप कार्यक्रम करते हैं और 50 लोग जुटते हैं। उसके बजाय 50 शक्ति केंद्रों में कार्यक्रम कीजिए। उसमें 10-10 लोग भी जुटेंगे तो 500 होंगे। जाहिर है कि संभाग, जिला और मंडलों के प्रभारी को बूथ और शक्ति केंद्र तक जाना ही होगा।

ऐसे आरोपों के लिए हमेशा तैयार रहें

माथुर ने कोर ग्रुप, प्रदेश पदाधिकारी, संभागीय प्रभारी, जिला प्रभारी, सह प्रभारी और जिलाध्यक्षों से भानुप्रतापपुर उपचुनाव के प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम पर लगे आरोपों को लेकर कहा कि ऐसे ढेरों आरोप लगने वाले हैं। इसके लिए तैयार रहें, वोट शेयर में ज्यादा अंतर नहीं है। उत्तरप्रदेश में इससे भी ज्यादा अंतर था। उत्तरप्रदेश चार छत्तीसगढ़ के बराबर है। इसके बाद भी वहां जीत मिली। प्रदेश प्रभारी ने कहा कि डट कर लड़ें। कांग्रेस के बजाय विधायक, मंत्री और सीएम को टार्गेट करें। बैठक में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव, नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल, प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय सहित कोर ग्रुप के सभी नेता व पदाधिकारी मौजूद थे।

कार्ययोजना होनी चाहिए

भाजपा राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश ने कहा कि- भाजपा मोर्चों की सालभर की एक कार्ययोजना होनी चाहिए। सारे मोर्चों को राजनीति के साथ सेवा, सामाजिक व रचनात्मक कार्यों में अपनी भूमिका बढ़ानी चाहिए। केंद्र की योजनाएं जिससे सामाजिक परिवेश में सकारात्मक परिवर्तन आए हैं, उन विषयों को लेकर जनता तक पहुंच कर उनसे चर्चा करनी है। उन्होंने जीत का मंत्र देते हुए कहा कि हमें सत्ता पक्ष के विधायक को हराना है। सरकार तो स्वयमेव ही हार जाएगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश का भाजपा कार्यकर्ता छत्तीसगढ़ में सरकार परिवर्तन का विचार बना चुका है स्तर पर संघर्ष हो रहा है। उनकी ऊर्जा को सम्मिलित कर एक दिशा में ले जाने के लिए प्रदेश से मंडल स्तर के पदाधिकारियों को अपने प्रवास बढ़ाने का निर्देश दिया।