रायपुर। CG BREAKING : छत्तीसगढ़ में आरक्षण के मुद्दे पर बवाल जारी है। आदिवासी समाज आरक्षण खत्म होने को लेकर आंदोलित है। इस बीच प्रदेश के उद्योग और आबकारी मंत्री कवासी लखमा (Minister Kawasi Lakhma) ने बड़ा बयान दिया था। उन्होंने कहा, अगर वे आदिवासियों को आरक्षण नहीं दिला पाये तो खुद को राजनीति से अलग कर लेंगे। वहीँ अब मंत्री कवासी लखमा ने एक और बड़ा बयान दिया है। मंत्री लखमा ने कहा कि- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बधाई, सीएम बघेल की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में आरक्षण का नया अनुपात तय हुआ। इसमें आदिवासी वर्ग-ST को उनकी जनसंख्या के अनुपात में 32% आरक्षण देगी, अनुसूचित जाति-SC को 13% और सबसे बड़े जातीय समूह अन्य पिछड़ा वर्ग-OBC को 27% आरक्षण मिलेगा। वहीं सामान्य वर्ग के गरीबों को 4% आरक्षण दिया जाएगा। सभी के आरक्षण को कोर्ट ने निरस्त कर दिया था, आज 2 महीने के बाद कर्नाटक तमिलनाडु महाराष्ट्र में हमारे समाज के लोग भी गए और अधिकारी भी गए पूरे मंथन के बाद अब कैबिनेट में पास हुआ है। भाजपा का एक भी आदमी किसी भी आदिवासी द्वारा किए गए मीटिंग में शामिल नहीं हुए। यह लोग आदिवासी से बहुत दूर हो गए हैं।

आदिवासी भीख मांग सकता है, लेकिन चोरी नहीं कर सकता – मंत्री लखमा 

बृजमोहन अग्रवाल के बयान को लेकर की निंदा – बोले – मनोज मंडावी की मृत्यु भूपेश बघेल की वजह से हुई है, एक मृतक नेता के खिलाफ इस तरह की बाते करेंगे ये ठीक नहीं है, इसलिए हमने उनकी पत्नी को टिकट दिया है, ऐसे बेबुनियाद आरोप लगाने से पहले सोचना चाहिए, वहीँ लखमा ने कहा कि सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस पार्टी है। जिस पार्टी में महात्मा गाँधी पैदा हुए हो, जिस पार्टी में भीमराव अम्बेडकर कानून मंत्री रहे हो, जिस पार्टी में पंडित जवाहरलाल नेहरू रहे वो, उस पार्टी का आदमी बड़ा हो सकता है, बीजेपी तो RSS का पार्टी है, तोड़ने वाला पार्टी है, बहुमत होने से बड़ा नहीं हो सकता है। भानुप्रतापुर में आदिवासी का नाक कट सकती है। वहीँ मंत्री लखमा ने आगे कहा कि आदिवासी भीख मांग सकता है, लेकिन चोरी नहीं कर सकता, बलात्कार नहीं कर सकता। वो आदिवासी बलात्कारी को आज टिकिट देकर ये क्या दर्शाना चाहते है। 

 

 

वहीँ इधर मुंबई रवाना हाेने से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा था कि, आरक्षण के लिए ही हम विधानसभा का विशेष सत्र बुला रहे हैं। कवासी लखमा को इस्तीफा देने की जरूरत नहीं पड़ेगी।