CG NEWS : सक्ती। भाजपा के दिग्गज आदिवासी नेता अविभाजित मध्यप्रदेश के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष तीन बार के लोकसभा और राज्यसभा एवं विधानसभा के सदस्य नंदकुमार साय आज अपने अल्फा प्रवास में जिला शक्ति पहुंचे हुए थे उन्होंने स्थानीय विश्राम गृह में मुलाकात के दौरान शायराना अंदाज में कहां की किताबों में छपते साहस के किस्से, और हकीकत की दुनिया में साहस नहीं है उन्होंने बातों ही बातों में कहा कि अब ऐसे लोग बहुत कम मिलते हैं जिनके साहस के किसे सुनाया जाए पहले के लोग समाज हित में जो ठान लेते थे वह करते थे पर अब कथनी और करनी में बहुत फर्क आ गया है जब उनसे यह पूछा गया कि क्या प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार बन सकती हैं तब उनका कहना था कि प्रदेश में भाजपा की सरकार जरूर बनेगी लेकिन उसके लिए संगठन में एक अच्छा लीडरशिप होना बहुत जरूरी है।

इसे भी पढ़े-  Chhattisgarh News : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गरियाबंद को दी 219 करोड़ रूपये के विकास कार्यो की सौगात

उन्होंने आगे कहा कि अभी केंद्र से जो बात सुनने में आ रही है इसमें संगठन को मजबूत करने के लिए चिंतन मनन किया जा रहा है और निश्चित तौर पर इसका आगे परिणाम देखने को मिलेगा। जब उनसे क्षेत्र में हो रहे धर्म परिवर्तन के बारे में पूछा गया तब उनका कहना था धर्म परिवर्तन को रोकना बहुत जरूरी है इसमें सभी समाज प्रमुखों की सहयोग की जरूरत है जो लोग समाज में मुखिया है या फिर समाज के कार्यों में आगे रहते हैं उन सबको मिलकर इस ओर ध्यान देना होगा। मैंने कई पंडितों को धर्म परिवर्तन करते देखा है। वही धमतरी क्षेत्र के कई गांव में लोग धर्म परिवर्तन कर दूसरे धर्म का पालन कर रहे हैं। हमें धर्म परिवर्तन रोकने के लिए उसके मूल कारणों पर जाना होगा, यह भी ध्यान देना होगा कि कोई भी प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन के लिए किसी को बहका ना सके। इसके लिए समाज के सभी वर्गों को ध्यान देने की जरूरत है। जब नंदकुमार साय से यह पूछा गया कि कोई भी राजनीतिक पार्टी या भाजपा, प्रदेश और जिले से आए हुए निर्देशों पर ही धरना प्रदर्शन और विरोध प्रदर्शन करती हैं स्थानीय मुद्दे को महत्व नहीं देती है तब उनका कहना था पिछली बार के पराजय का मुख्य कारण शायद यही रहा है। भाजपा का पराजय बहुत भयानक तरह से हुआ था उसके बाद इस दिशा में सोचा जाना था। हमारे समय में एक बार मैंने गोलियां गढ़ की घटना को लेकर बहुत ही प्रमुखता से आवाज उठाया था जिसमें जनजातियों एवं आदिवासियों के साथ जुल्म हुआ था वह क्षेत्र बागबाहरा थाना के अंदर आता था उस समय पूरे थाने के लोग सस्पेंड हो गए थे इस तरह के काम से स्थानीय लोग हम से जुड़ते हैं मेरा मानना है कि सभी दलों को स्थानीय मुद्दे पर आवाज उठाना चाहिए इससे संगठन के साथ-साथ उस क्षेत्र में आधार भी मजबूत होता है। चर्चा के दौरान उनसे पूछा गया कि अगर आपको भाजपा कोई बड़ी जिम्मेदारी देती है तब आपका रुख क्या रहेगा उन्होंने कहा संगठन की ओर से जो भी जवाबदारी मिलेगी उसे निष्ठा पूर्वक ईमानदारी से पालन करूंगा और संगठन को मजबूत बनाने के लिए हमेशा प्रयासरत रहूंगा।