कोरबा। CG NEWS : कलेक्टर ने दो शिक्षकों को पीपीएफ, जीपीओ, जीपीएफ प्राधिकार एवं प्रशस्ति पत्र सौंपकर दी बधाई। आसानी से सेवानिवृत्ति प्रकरण निराकृत होने पर शिक्षकों ने कलेक्टर के प्रति जताया आभार।

कलेक्टर संजीव झा की विशेष एवं अनुकरणीय पहल से 31 दिसंबर को सेवा निवृत्त हुए दो शिक्षकों को सेवानिवृत्ति लाभ का भुगतान हो गया। सेवानिवृत्ति का लाभ प्राप्त करने के लिए उन्हें बार-बार कार्यालयों का चक्कर लगानी नहीं पढ़ी। कलेक्टर झा ने सेवानिवृत्त प्रधानपाठकों डेजी रानी मिंज एवं रामनारायण साहू को पीपीएफ, जीपीओ एवं जीपीएफ प्राधिकार पत्र सौंपा। साथ ही शासकीय सेवाकाल के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने के लिए प्रशस्ति पत्र सौंपकर बधाई दी। कलेक्टर ने दोनो शिक्षकों के अच्छे भविष्य एवं खुशहाल जीवन के लिए शुभकामनाएं भी दी।

इन्हें भी पढ़े-CG NEWS : शादीशुदा युवती ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा – ”मुझसे एक गलती हो गई है, इसलिए… 

कलेक्टर झा ने परामर्शदात्री समिति की बैठक में सेवानिवृत्ति के प्रकरणों के त्वरित निराकरण के निर्देश दिए थे। साथ ही साथ  सेवानिवृत्ति के समय शासकीय सेवकों को कलेक्टर और विभाग के जिला प्रमुख के संयुक्त हस्ताक्षर से जारी प्रशस्ति पत्र देने के भी निर्देश दिए थे। इसी के तहत जिला कोषालय एवं जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा दोनों शिक्षकों के सेवानिवृत्ति प्रकरण के निराकरण के लिए त्वरित कार्यवाही की गई। जिला प्रशासन की कार्यवाही के फलस्वरूप काफी कम दिनों में सेवानिवृत्ति प्रकरण निराकृत होने पर दोनों शिक्षकों ने कलेक्टर एवं जिला प्रशासन के प्रति आभार जताया। इस दौरान जिला शिक्षा अधिकारी जीपी भारद्वाज, जिला कोषालय अधिकारी जसपाल सिंह राज एवं विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी कटघोरा ईश्वर कश्यप मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े- UP Accident : ड्यूटी से लौट रहे 4 भाई-बहनों को ट्रक ने रौंदा, दो की मौत, घना कोहरा बनी हादसे की वजह

जिला शिक्षा अधिकारी भारद्वाज ने बताया कि सेवानिवृत्त हुए दोनों शिक्षक प्रधानपाठ के पद पर पदस्थ रहे। डेजीरानी मिंज कटघोरा स्थित प्राथमिक शाला में एवं रामनारायण साहू नवापारा के पूर्व माध्यमिक शाला में सेवाएं प्रदान की। उन्होंने बताया कि कलेक्टर के निर्देशानुसार सेवानिवृत्ति के पहले से ही उनके सेवानिवृत्ति प्रकरण के निराकरण की कार्यवाही शुरू हो गई थी।कम समय में प्राधिकार पत्र प्राप्त होने से दोनों शिक्षकों के भविष्य तथा उनके परिजनों को पेंशन आदि की राशि प्राप्त करने में समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। सेवानिवृत्त शिक्षक पेंशन प्रकरण की चिंता से मुक्त होकर आगे का जीवन गुजार सकेंगे।