रायपुर। RAIPUR NEWS : ग्रीन आर्मी द्वारा विगत दिनों पर्यावरण संरक्षण पर विधार्थीयों की भूमिका के विषय पर प्रशिक्षण कार्याशाला का आयोजन किया गया। जिसमें एक साथ लगभग 80 स्कूलों में प्रशिक्षण प्रदान किया गया। जिसके लिये पहले संस्था द्वारा प्रशिक्षकों का चयन किया गया। तत्पश्चात इस प्रशिक्षण कार्याशाला का आयोजन लगभग 80 स्कूलों में किया गया। कार्यक्रम प्रभारी डॉ. हितेश दिवान ने बताया कि बच्चों का पर्यावरण के प्रति विशेष लगाव होता है। बच्चें देश के भवीष्य होते है अगर इन्हें पर्यावरण के महत्व एवं आवश्यकता को समझाये, तो पर्यारण संरक्षण में सहायक साबीत होंगे। इन्ही सब बातों को ध्यान में रखते हुए ग्रीन आर्मी संस्था द्वारा स्कूलों में प्रशिक्षण कार्याशाला का आयोजन किया गया।

जिसमें लगभग 80 स्कूलों ने अपनी सहभागीता दर्ज कराते हुए अपने स्कूली बच्चों को प्रशिक्षण प्रदान करवाया। पर्यावरण प्रदूषण एक वैश्विक जटिल समस्या है, इससे निपटने के लिये प्रत्येक नागरिक को अपना उत्तरदायित्व निभाना होगा। विधार्थी भी छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखकर पर्यावरण संरक्षण में अपना अहम योगदान दे सकते है। संस्था के नवनिर्वाचित अध्यक्ष मोहन वर्ल्यानी ने बताया कि पौधों को बच्चों की तरह देख-रेख करना चाहिए। वृक्षारोपण के पहले पानी एवं सुरक्षा व्यवस्था का विशेष ध्यान रखना चाहीये।

इसे भी पढ़े- Ration Card : राशनकार्ड धारकों के लिए बड़ी खबर, सरकार ने लिया ऐसा फैसला कि झूम उठे लोग

साथ ही पानी का सदुपयोग करें, प्रायः देखा गया कि बहुत से स्थानों में नल की पानी नालियों में बहता रहता है इसे रोका जाना चाहियें, घरों में सिंगलयूज प्लास्टिक उपयोंग न करें, तालबों को में कचरा न फेके सूखा कचरा एवं गीला कचरा के लिये अलग अलग डस्टबिन का उपयोंग करे, कचरा न जलाये, सालकल का उपयोग करें, आदि बातों को प्रशिक्षण के माध्यम से स्कूली बच्चों को बताया गया। यह प्रशिक्षण जे आर दानी, राम कृष्णा विधालय आश्रम, मठपारास्कूल, जेके दानी पुरानी बस्ती, गनपद सिंधी स्कूल पुरानी बस्ती, शिशू शिक्षा केन्द्र बुढापारा खो-खो पारा स्कूल रायपुर कान्वेंट स्कूल समेत लगभग 80 स्कूलों में प्रशिक्षण प्रदान किया गया, जो कि विगतदिनों सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। स्कूली बच्चों ने कहा कि यह प्रशिक्षण निरंतर होना चाहिये। ताकि स्कूली बच्चें अपने पालकों, रिश्तेदारों, आस-पास को बताकर पर्यावरण संरक्षण में अपनी अहम भूमिका जनजारूकता करके निभा सकें। स्कूल प्रबंधनों ने भी पर्यावरण संरक्षण के इस मुहीम का सराहना किया है। कार्यक्रम प्रभारी डॉ. हितेश दिवान ने प्रशिक्षण में शामिल सभी स्कूलों का आभार व्यक्त किया है।