महासमुंद। CG NEWS : जनपद पंचायत के सभापति दिग्विजय सिंह ने महासमुंद कलेक्टर निलेश क्षीरसागर को लिखित शिकायत कर बताया है कि जनपद पंचायत सीईओ निखत सुल्ताना द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा जारी विकास कार्य के राशि जारी करने से पहले जनपद पंचायत क्षेत्र के सरपंच और जनपद सदस्यों से कमीशन की मांग करती है। जो सरपंच और सदस्य कमीशन देने की मांग स्वीकार करता है। उसी क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए राशि जारी की जा रही है। जनपद पंचायत सभापति ने कलेक्टर से शिकायत करते हुए जांच की मांग कर जनपद सी ई ओ के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। शिकायत में कहा गया है कि विकास कार्यों के लिए आया गया धन राशि में से  3 से5 प्रतिशत कमीशन की मांग की जाती है। जनपद पंचायत के सभापति ने लिखित शिकायत में यह भी कहा है कि जनपद पंचायत के सीईओ को सत्ता पक्ष के नेताओं का संरक्षण है। जिसके चलते जनपद पंचायत सीईओ की मनमानी बढ़ती जा रही है।

दिग्विजय सिंह साहू, सभापति जनपद पंचायत महासमुंद-

इन्हें भी पढ़े- PM मोदी ने क्रूज विलास को दी हरी झंडी, बोले- अब देसी पर्यटक विदेश नहीं जाएंगे

 

निखत सुल्ताना, सीईओ जनपद पंचायत महासमुंद-

जनपद पंचायत के सभापति ने शिकायत में यह भी कहा है कि जनपद पंचायत सीईओ ने जनपद पंचायत के बाबुओं को भी कह रखा है कि जब तक कमीशन की राशि नहीं दी जाती है तब तक किसी भी जनपद पंचायत क्षेत्र में विकास का कार्य नहीं कराया जाएगा। यह भी शिकायत की गई है कि COE जिला कार्यालय में उपलब्ध नहीं रहती और रायपुर से आना जाना करती है। जिस वजह से जनपद पंचायत क्षेत्र का काम बाधित हो रहा है और साथ ही लाखों रुपए पेट्रोल के रूप में जनता के पैसे का दुरूपयोग किया जा रहा है। मामले में जनपद पंचायत सीईओ का कहना है कि जो आरोप उन पर लगाया गया है वह निराधार है। जांच उपरांत दूध का दूध पानी का पानी हो जायेगा।