बीजापुर : BIG NEWS : नक्सलियों ने पुलिस मुखबिरी के शक में 12वीं कक्षा के छात्र को मौत के घाट उतार दिया. नक्सलियों ने ताती हिडमा के मौत पर केंद्र, राज्य सरकार के साथ पुलिस प्रशासन को जिम्मेदार माना है.

इन्हें भी पढ़ें : CG Breaking : सीआरपीएफ के जवानों ने 6 नक्सलियों को किया गिरफ्तार, भारी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ बरामद

नक्सली संगठन भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) दक्षिण बस्तर डिविजनल कमेटी की ओर से जारी विज्ञप्ति में बताया कि एक योजना के तहत 11 जनवरी 2023 को सुबह 11 बजे हमारी पार्टी नेतृत्व, पीएलजीए बलों और जनता पर ड्रोन्स, हेलीकॉप्टरों के जरिए हवाई हमला किया गया था. जिस हमले में तीन साल पहले ग्राम बोट्टेतोंग के ताती हिडमा दंतेवाड़ा में 12वीं कक्षा के छात्र को पुलिस ने हिरासत में लेकर धमकियां दी और पैसा-नौकरी का लालच देकर अपने मुखबिर के रूप में तब्दील किया. तब से छात्र मुखबिरी कर रहा था.

हिडमा पुलिस मुखबिरी में लगातार सक्रिय रहा. जंगल में शिकार के नाम पर सेल्फी लेने के नाम पर वे गुरिल्ला बलों का डेरों व कैम्पों का रेक्की करता था. ड्रोनों के माध्यम से बम गिराने, हेलिकॉप्टरों से फोर्स उतारने और किस दिशा से हमला शुरू करने सहित सटीक लोकेशन का भी शेयर किया था. इन हवाई हमलों के बाद ताती हिड़मा पर शक करके पीएलजीए ने उनको पकड़ लिया. पूछताछ में उसने खुद इस ऑपरेशन में प्रधान मुखबिर होने की बात का खुलासा किया था. जिस पर नक्सलियों ने उसे मौत के घाट उतार दिया.