कोरबा। CRIME NEWS : पंडित दीनदयाल (पीडीडीयू) जंक्‍शन पर शनिवार को स्थानीय रेलवे जंक्शन के प्लेटफार्म संख्या तीन व चार की सीढ़ियों के पास से डेढ़ करोड़ रुपये नकद के साथ कोरबा जिले के तरदा बैकपाली कनकी निवासी राजेश दास को पकड़ा है। राजेश दिल्ली से रुपये लेकर कोलकाता जा रहा था। जीआरपी ने रुपये व आरोपित को आयकर विभाग के अधिकारियों के हवाले कर दिया है। आगे की कार्रवाई आयकर विभाग करेगा। एक साथ इतने रुपए मिलने से हैरान जीआरपी वालों ने अपने बड़े अधिकारीयों और इनकम टैक्‍स को तत्‍काल इसकी सूचना दिया गया। पकड़े गए शख्‍स ने बताया कि उसे दिल्‍ली के एक ज्‍वेलरी कारोबारी ने ये रुपए कोलकाता के एक व्‍यक्ति तक पहुंचाने के लिए दिए हैं। कोलकाता में चाइनीज कोड के आधार पर इन रुपयों की डिलीवरी करनी थी। ट्रॉली बैग से मिली करेंसी, दो हजार और पांच सौ रुपए के नोटों की शक्‍ल में है। कुल मिलाकर ये डेढ़ करोड़ रुपए हैं। जीआरपी ने आरोपित को इनकम टैक्स विभाग को सौंप दिया है। आईबी भी जांच पड़ताल में जुटी गई है।

यह भी पढ़ें-Satish Kaushik Death : क्या सतीश कौशिक की हुई थी हत्या ? दिल्ली में महिला ने किया सनसनीखेज दावा, बोली – ‘मेरे पति ने…

पुलिस उपाधीक्षक वाराणसी कुंवर प्रभात सिंह से मिली जानकारी के अनुसार जीआरपी पीडीडीयू निरीक्षक सुरेश कुमार सिंह के नेतृत्व में स्टेशन व सर्कुलेटिंग एरिया में गश्त की जा रही थी। प्लेटफार्म संख्या तीन पर डाउन ब्रह्मपुत्र मेल के पहुंचने पर एक व्यक्ति उतरकर तेजी से जाने लगा। संदेह होने पर जवानों ने रोककर उसके ट्रॉली बैग की तलाशी ली। काफी मात्रा में नकदी मिलने पर उसे थाने लेकर पहुंचे। छानबीन में पता चला कि बैग में दो हजार और पांच सौ के डेढ़ करोड़ रुपये हैं। आरोपी छत्तीसगढ़ प्रांत के कोरबा जिले के तरदा बैकपाली कनकी निवासी राजेश दास है। नकदी के संबंध में किसी प्रकार का कागजात नहीं मिला। राजेश दास के अनुसार दिल्ली के करोलबाग का रहने वाला आशीष अग्रवाल ज्वेलरी का कारोबारी है। उसने कोलकाता के एक व्यक्ति के पास रुपये भेजे थे। चाइनीज कोड बताने पर डिलीवरी करनी थी। जीआरपी ने नकदी सहित आरोपित को इनकम टैक्स विभाग वाराणसी को सौंप दिया। सीओ ने बताया कि बरामद नकदी हवाला का होने के संदेह में आईबी की टीम भी जांच कर रही है।