जयपुर। CRIME NEWS : जयपुर में एक ऐसा मामला सामने आया जहां पति-पत्नी जैसे पवित्र रिश्ता को शर्मसार कर दिया है. जहां अवैध संबंधों के चलते पत्नी ने अपने ही पति को प्रेमी और उसके साथियों के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया. अपनी इस घिनौनी हरकत को छुपाने के लिए हत्यारी पत्नी और उसके प्रेमी ने पति का हत्या कर लाश को कुएं में फेंक दिया था. लेकिन आखिरकार पुलिस ने पूरे मामले का खुलासा करते हुए पत्नी, उसके प्रेमी और हत्या की वारदात में सहयोग करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। DCP साउथ योगेश गोयल ने बताया कि थाना शिवदासपुरा पर 20 फरवरी को परिवादी बाबुलाल मीना ने एक मुकदमा दर्ज कराया कि उसका भतीजा राकेश मीना अपनी पत्नी फुला देवी और अपने दो साल के बच्चे को साथ लेकर वसुन्धरा कुटुम्ब सी ब्लॉक फ्लैट नं. 24 फोर्थ फ्लोर, मोहनपुरा रोड, बीलवा में किराये से रहते थे. राकेश की पत्नी फुला देवी एक कृष्ण नाम के लड़के के सम्पर्क में रहती थी और राकेश की गैर मौजूदगी में भी उससे मिलती थी तो इस बात पर राकेश अपनी पत्नी से एतराज करता था और दोनों में झगड़ा भी हो जाता था. 5 फरवरी को राकेश ने बाबूलाल को मिलकर ये बात बताई थी और साथ यह भी बताया कि कृष्ण कुमार का राकेश के पास उस दिन फोन आ रहा था और मिलने के लिए बुला रहा था। जिनसे मिलने पर राकेश की जान को खतरा था. इसलिए बाबूलाल ने उसे आगाह किया था उसके बाद राकेश बाबूलाल के पास से चला गया था. उसके बाद राकेश अपनी मोटरसाईकिल सहित 7 फरवरी से को गायब हो गया. राकेश के चाचा बाबूलाल और राकेश के दोस्त सीताराम मीना ने राकेश को तलाश करने व उसके बारे में जानकारी के प्रयास किया लेकिन उसका कोई पता नहीं चला।
राकेश की पत्नी फुला ने भी संतुष्टी पूर्ण जानकारी नहीं दी. राकेश की पत्नी फुला देवी व कृष्ण कुमार ने मिलकर षडयंत्र रचकर राकेश मीना की हत्या कर दी और उसकी लाश को छिपाने के लिए एक कुए में डाल दिया. इस पूरे मामले की शिकायत थाने पर दर्ज होने पर पुलिस ने जांच के लिए विशेष टीम गठित की और जांच शुरू हुई. 12 फरवरी को सीताराम मीणा के द्वारा राकेश के गुम होने की रिपोर्ट पर थाना शिवदासपुरा पर गुमशुदगी दर्ज हुई थी. 25 फरवरी को वाटिका से चन्दलाई रोड पर स्थित एक कुए के अन्दर एक लाश होने की सूचना पर एसीपी चाकसू, थानाधिकारी सांगानेर सदर व शिवदासपुरा मौके पर पहुंचे और सिविल डिफेन्स टीम , एफ.एस. एल युनिट को तलब किया जाकर मौके से साक्ष्य एकत्रित करवाये गये और मृतक की बॉडी महात्मा गांधी अस्पताल सीतापुरा जयपुर के मुर्दाघर में रखवाई गई।
बता दें कि- मृतक की लाश व हुलिया व पहने हुये कपड़ो से पहचान राकेश के रूप में हुई. पुलिस जांच के दौरान केस में नामजद आरोपीया मृतक की पत्नी फूला उर्फ पूजा को औऱ कृष्ण कुमार को दस्तयाब कर उनसे पूछताछ की गई. जांच से पता चला कि आरोपी कृष्ण कुमार और फूला उर्फ पूजा का आपस में अवैध संबंध होना , पति द्वारा एतराज करने पर अपना रास्ता साफ करने के लिए पति राकेश को रास्ते से हटाने की योजना बनाई. इस पर एक बार तो दोनों आपस मे झूठ बोलते रहे उसके बाद गहन तफ्तीश की तो बताया की राकेश को मारने की योजना पत्नी फुला उर्फ पूजा और उसके प्रेमी कृष्ण ने बनाई जिस पर कृष्ण कुमार ने अपने ही गांव के दिलखुश मीणा, विजय मीणा, कार चालक विजेंद्र उर्फ विजय से मिलकर राकेश की हत्या करके लाश को मोहनपुरा चंदलाई रोड पर एक कुएं मे डाल दी। लाश को ठिकाने लगाने में सहयोगी साथी विजेंद्र उर्फ विजय की कार को काम मे लेना सामने आया है अब वाहन और विजेंद्र की तलाश जारी है।