जीवित लोगों को जहां राशन कार्ड बनवाने के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है वहीं, गरियाबंद जिले में ११ मृतकों के नाम पर मुफ्त राशन बाटा जा रहा है मामला देवभोग- बरबहली पँचायत द्वारा संचालित राशन दुकान का है जहां से मुर्दे राशन ले जा रहे है ,मनरेगा में बोगस मजदूरी के बाद अब मृत कार्डधारकों के नाम से साल भर से राशन जारी होने की शिकायत हई प्रभारी मंत्री से।एसडीएम करेंगे जांच
बरबहली पँचायत में प्रोफेसर बेटी समेत सरकारी गैर सरकारी लोगो के नाम मनरेगा में मजदूरी करने के मामले के बाद अब इसी पँचायत में मुर्दों द्वारा राशन ले जाने का मामला सामने आया है।ग्राम के सीताराम पाथर ,शोभाराम मांझी समेत अन्य ग्रामीणों ने शनिवार को दासोपारा पहूचे खाद्य एवं जिले के प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत के समक्ष इसकी लिखित शिकायत किया है।मंत्री ने शिकायत को गम्भीरता से लेते हुए एसडीएम अर्पिता पाठक को जांच कर कार्यवाही करने कहा है।एसडीएम पाठक ने कहा कि सोमवार से इसकी विधिवत जांच की जायेगी।

शिकायत कर्ताओं के मूताबिक राशन दुकान ग्राम पंचायत सन्चालित कर रहा है।मृत ब्यक्तियो को छंटनी कर साल भर पहले नए लिस्ट बनाये गए।नियम से पंचायतो को मृत ब्यक्ति का नाम खाद्य विभाग को भेज कर उनके नाम राशन आबंटन लिस्ट से कटवाना था पर ऐसा नही हुआ।सीताराम पाथर,शोभाराम मांझी ने बताया कि ग्राम के सुमित्रा पाथर ,जयमनी, मंगलसिंह,वृंदा यादव,रजूला बाई,खेम बाई,समेत 11 से ज्यादा लोगों की मौत साल भर पहले हो चुका है।जिनका राशन आज भी जारी होता है।शिकायत कर्ताओं ने बताया कि यह दुकान पँचायत सचिव के नाम पर एलार्ट है।जिसका सेल्समेन दुष्यंत सिन्हा है जो सरपँच सुमित्रा सिन्हा का बेटा है।नियमतः पँचायत द्वारा संचालित इस दुकान में पँचायत पदाधिकारी का कोई भी रिश्तेदार दुकान सेल्समेन नही हो सकते लेकिन नियम कायदे ताक में रखकर यंहा भी गड़बड़ी हो रही है।

पोस् मशीन में अंगूठा लगाने का प्रावधान- तीन साल पहले ही राशन वितरण प्रणाली को आनलाइन किया गया,मकसद बोगस वितरण को रोकना था,नियमानुसार राशन कार्ड के मुखिया व परिवार का अंगूठा पोर्टल में एंट्री है,ऐसे में परिवार के किसी एक सदस्य के पॉस मशीन में अंगूठा लगाने के बाद उसे पूरे सदस्यों का राशन दिया जाता है।शिकायतकर्ताओं के मूताबिक 11 में से 8 मुखिया है,जिनके सदस्यों को मृतक के हिस्से का राशन कार्ड कर सेल्समेन राशन देता है,जबकि नवनिकरण में पँचायत द्वारा मृतक के नाम विलोपित नही कराने के कारण मृतकों के नाम से साल भर हो गए प्रतिमाह राशन आ रहा है।

फोटो- प्रभारी मंत्री के समक्ष मुर्दों को जारी हो रहे राशन की शिकायत करते ग्रामीण