कश्मीर (kashmir )में सेना के ट्रक(truck ) पर हमला करने वाले आतंकियों की तलाश की जा रही है। इसके लिए स्पेशल टीम को लगाया गया है। इसमें हेलिकॉप्टर, ड्रोन और स्निफर डाॅग की भी मदद(help ) ली जा रही है। यह खोजो और मारो अभियान है। यानी नजर आते ही आतंकियों को खत्म करने का आदेश है।

Read more :Jammu Kashmir : तंगधार की नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की कोशिश नाकाम, सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया

आपको बात दे गुरुवार को यहां सेना के ट्रक(truck ) पर गोलीबारी और फायरिंग (firing )की गई थी। इससे ट्रक में आग लग गई थी और राष्ट्रीय रायफल्स यूनिट के 5 जवान शहीद(dead ) हो गए थे। एक जवान घायल हुआ था। डिफेंस सूत्रों के मुताबिक(as per the defence reports ), घायल जवान ने बताया कि रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड अटैक(granite attack ) में कम से कम 7 आतंकी शामिल हो सकते हैं।

तेज़ बारिश (heavy rainfall )का फायदा उठाकर आतंकियों ने घात लगाकर वाहन को घेरा

हमला गुरुवार दोपहर 3 बजे राजौरी सेक्टर(sector ) में तब हुआ, जब सेना के तीन वाहन जवानों को लेकर राजौरी-पुंछ नेशनल हाईवे पर भीमबेर गली से पुंछ की तरफ जा रहे थे। तेज बारिश और कम विजिबिलिटी का फायदा उठाकर आतंकियों ने घात लगाकर एक वाहन को घेरा। इसके बाद ग्रेनेड फेंके और करीब 50 राउंड फायर किए। इससे वाहन में आग लग गई।हमले की जिम्मेदारी पीपुल्स एंटी-फासिस्ट फ्रंट (PAFF) ने ली है। गुरुवार दोपहर में सेना ने इसे हादसा बताया था, लेकिन शाम 6:33 बजे पुष्टि की कि यह आतंकी हमला है।