6 साल की लड़की के रेप और हत्या से जुड़े केस के दोषी रविंदर कुमार को दिल्ली के रोहिणी कोर्ट ने  उम्रकैद की सजा सुनाई है। रविंदर 2008 से 2015 के बीच 30 बच्चों के अपहरण और हत्या में शामिल था। अभी केवल तीन मामलों(three cases ) की सुनवाई हुई है।

read more : Delhi Ordinance: LG को बॉस बनाए जानें पर घमासान, नीतीश ने खड़गे-राहुल को मनाया, अब AAP के साथ मिलकर केंद्र के अध्यादेश का करेंगे विरोध

रविंदर हर शाम शराब पीता या ड्रग्स(drugs ) लेता और फिर अपने टारगेट यानी नाबालिग बच्चों की तलाश में निकल जाता था। इसके लिए वो एक दिन में 40 किमी तक पैदल भी चल लेता था। सबसे पहले उसने 2008 में एक बच्ची का रेप कर उसे मार दिया था। पहली बार अपराध करके पकड़े नहीं जाने पर उसकी हिम्मत बढ़ गई। फिर यह उसका रोज का सिलसिला बन गया। उसने ज्यादातर रेप दिल्ली-NCR और पश्चिमी यूपी के इलाकों में किए थे।

2008 में वह उत्तर प्रदेश के कासगंज से दिल्ली(delhi ) आया था

रविंदर ने खुद अपना गुनाह कबूल किया था। उसने बताया था कि 2008 में वह उत्तर प्रदेश के कासगंज से दिल्ली आया था। उस समय उसकी उम्र 18 साल थी। उसके पिता प्लम्बर का काम करते थे और मां लोगों के घरों में खाना और साफ-सफाई का काम करती थी। दिल्ली आने के बाद वह शराब और ड्रग्स का आदि हो गया। साथ ही उसको पोर्न वीडियो देखने की लत लग गई।

2015 में 6 साल की बच्ची के अपहरण के केस(case ) में जांच कर रही पुलिस(police ) ने उसे गिरफ्तार किया

रवींद्र कुमार को पुलिस ने पहली बार 2014 में पकड़ा था। उस पर 6 साल के बच्चे के अपहरण, हत्या की कोशिश और शारीरिक शोषण का आरोप लगाया गया था। हालांकि बाद में उसे छोड़ दिया गया था। इसके बाद 2015 में 6 साल की बच्ची के अपहरण के केस में जांच कर रही पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। दिल्ली के रोहिणी में सुखबीर नगर बस स्टैंड के पास से उसे पकड़ा गया था।पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए दर्जनों CCTV कैमरों की फुटेज खंगाले थे। मुखबिरों से भी पूछताछ की थी। पुलिस के मुताबिक, रविंदर पर आरोप था कि उसने लड़की का अपहरण करने के बाद रेप किया फिर गला काट कर हत्या कर दी।