शाजापुर के जिला अस्पताल में लापरवाही का बड़ा मामला सामने आया है। यहां एचआईवी पीड़ित महिला की शाैचालय में डिलेवरी हो गई। खास बात यह है कि अस्पताल में महिला को भर्ती कर लिया गया और डाक्टर व स्टाफ को पता नही था कि महिला एचआईवी पीड़ित है।

read more : CG Election 2023: तैयारी जीत की : पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद आज तीन विधानसभा सीटों का करेंगे दौरा, कार्यकर्ताओं की लेंगे बैठक

बताया जा रहा है एचआईवी पीड़ित लोगों के उपचार, डिलेवरी में रखी जाने वाली कोई भी सावधानी का पालन यहां नही किया गया। जिससे महिला के संपर्क में आए डाक्टर, स्वास्थ्यकर्मी व अन्य लोगों में दहशत का माहाैल है। दूसरी ओर अस्पताल में भर्ती महिला की शाैचालय में डिलेवरी हो जाने से यहां की व्यवस्थाओं पर भी प्रश्न चिन्ह लग रहे हैं। मामले में जिला अस्पताल आरएमओ डॉ. सचिन नायक ने बताया कि महिला को ट्रामा सेंटर के मेटरनिटी वार्ड में भर्ती किया गया था। किंतु वह वहां नही रुकी और पुरानी बिल्डिंग की ओर चली गई। जहां शाैचालय में उसकी डिलेवरी हुई है। डिलेवरी के बाद पता चला है कि महिला एचआईवी पीड़ित है। ऐसे में महिला और शिशु को अलग वार्ड में रखा गया है। साथ ही एचआईवी पीड़ित मरीज से जुड़े प्रोटोकाल अनुसार सावधानी रखकर उपचार किया जा रहा है।