भारत देश मे वन नेशन वन राशनकार्ड से मिलने वाला राशन हितग्राहियों के लिए किसी वरदान से कम नही है।  वहीं जिले में एक ऐसा मामला सामने आया है, जहाँ एक महिला को पिछले 4 सालों से राशन दुकान संचालक गुमराह कर प्रतिमाह केवल 10 किलो के हिसाब से चावल दे रहा था जबकि महिला के राशनकार्ड में प्रतिमाह 35 किलो चावल दिया जाना था। । महिला को इस बात की खबर तब हुई जब वह किराए के मकान को खाली कर शहर के दूसरे स्थान पर रहने के लिए गई। यहाँ जब राशन लेने की बारी आई तो महिला दूसरे राशन दुकान में  10 किलो चावल के हिसाब से झोला लेकर पहुँच गई और तब उसको वह के राशन संचालक ने बोला कि आपका चावल इस झोले में नही आएगा क्योकि आपको 35 किलो चावल मिलेगा। यह बात सुनकर वह हैरान हो गयी। महिला अंबिकापुर शहर के नवागढ़ की रहने वाली है और उसका नाम डोली चौधरी बताया जा रहा है। इस बात की जानकारी मिलते ही महिला खाद्य विभाग से राशन दुकान के खिलाफ शिकायत करने पहुंच गयी। लेकिन आज तक महिला को कोई इंसाफ नहीं मिल सका है।