कोरबा के रामसागर पारा में रहने वाले लंदन रिटर्न छात्र के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की रिपोर्ट आने के बाद से ही जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है। छात्र को दो दिन पहले ही ईलाज के लिए रायपुर के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में दाखिल कराया जा चुका है।

कलेक्टर श्रीमती किरण कौषल ने संक्रमित छात्र के सम्पर्क में आने वाले लोगों की जल्द से जल्द पहचान के लिए स्वयं मोर्चा संभाल लिया है। कलेक्टर द्वारा बनाई गई टीमों ने पिछले दो दिनों में ही संक्रमित छात्र के संपर्क में आने वाले 28 लोगों की पहचान कर ली है। इसमें छात्र के चार पारिवारिक सदस्य और घर में काम करने वाले सात कामगार भी शामिल हैं।

इसके साथ ही छात्र के तीन दोस्तों को भी ट्रेस किया गया है। अकलतरा से लेकर कोरबा तक आने वाले ड्राईवर के साथ-साथ छात्र के रायपुर स्थित रिश्तेदारों और रायपुर के आफिस में काम करने वाले 14 लोगों की पहचान भी कर ली गई है। इन सभी को एतिहातन तत्काल आइसोलेशन में रखा गया है। इनमें से अब तक 25 लोगों के गले और नाक के स्वाब के सेम्पल लेकर एम्स रायपुर जांच के लिए भेजे गये हैं और 24 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। अकलतरा से कोरबा तक संक्रमित छात्र को लेकर आने वाले वाहन चालक की जांच रिपोर्ट अभी नहीं मिली है।

चैबीस लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी सभी अगले 14 दिनों तक होम आईसोलेशन में रखने के निर्देश दिए गये हैं। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम लगातार इनके स्वास्थ्य की जांच कर रही है। सभी लोगों को सर्दी,खांसी, बुखार, श्वास लेने में तकलीफ जैसी परेशानी होने पर तत्काल सूचित करने के लिए भी कहा गया है।

संक्रमित छात्र के संपर्क मेें आने वाले उसके तीन दोस्तों को भी कोरबा में होम आईसोलशन में रखा गया है। इन सभी को घर से किसी भी स्थिति में बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी गई है। स्वास्थ्य विभाग के दिषा निर्देशों के आधार पर यह तीनों दोस्त अभी सबसे लो रिस्क पर हैं। तीनों दोस्तों को कोरोना संक्रमण से संबंधित किसी भी प्रारंभिक लक्षण के उभरने पर तत्काल स्वास्थ्य विभाग को सूचित करने कहा गया है।