सरकार बेपरवाह कैसे बुझेगी प्यास

पखांजूर – पखांजूर अन्तागढ़ ब्लाक मुख्यालय के सुरेवाही ग्राम के गुहाडपारा आजादी के 70 शाल बाद भी विकास से दूर गांव को कई पीड़िया गुजर गई , मगर मूलभूत सुविधा आज तक नही मिली|

आपको बता दु की गुहाड पारा सुरेवाही का एक पारा जहाँ आज तक बिजली पानी जैसी सुविधाएं नही बिजली के खंभे तो खड़े है मगर बिजली आज तक लोगो तक नही पहुची वही पानी की बात करे तो गांव के ग्रामीण बच्चों के साथ प्यास बुझाने नदी की ओर निकलते है शायद जिंदगी की शुरुआत इसी मुश्किल के साथ करना पड़ता है जहा गांव के लोग गर्मी में सुखी नदी में गड्ढे खोदकर पानी निकलते है तब कही जाकर उनको पानी नशीब हो पाता है वो भी कोई स्वच्छ पानी नही  प्यास बुझाने के लिए इन ग्रामीणों को 1 km का सफर तय करना पड़ता है तब कही  प्यास बुझ पाती है जहाँ ग्रामीणों का कहना है कि गर्मी में फिर भी पानी नसीब हो जाता है बरसात में तो आलम और खराब रहते है जहाँ हम झिल्ली को चारों और बांधकर बीच मे छेद करके पानी इकट्ठा करते है फिर उसको उपयोग में लाया जाता है ये हमारी मजबूरी है पानी और बिजली की मांगों को लेकर सबको ज्ञापन दिया मगर पीढ़िया  गुजर गई पानी ,बिजली नही मिला|

पानी बिजली के लिए हमने कई बार ज्ञापन दिया मगर कोई नही आया न ही पानी और बिजली मिली इसकी मांग को लेकर जनप्रतिनिधि से लेकर प्रशासन  को करते आये है मगर आज तक निराकरण नही हुआ|

जनप्रतिनिधि वोट मांगने तो आते है वादे भी करते है और चुनाव खत्म होते ही वादे जमीन पर लागू नही होते|

मेने ग्रामीणों की समस्या  को लेकर शासन प्रशासन को अवगत कराया मगर किसी प्रकार का निराकरण नही हुआ में सरपंच पति होने के कारण मैंने
जनप्रतिनिधि सांसद , विधायक को भी अवगत कराया मगर कोई हल नही निकला|

मुझे जानकारी नही थी अपने अवगत कराया है संबंधित विभाग से बात कर में समस्या का निराकरण कराता हु|

वही सवाल ये है कि जहाँ सरकार विकास के दावों के ढोल पीटते नही थकती वही आज भी लोग बिना पानी सड़क बिजली जैसी सुविधाओ से महरूम है
जनप्रतिनिधि की बेपरवाही के आलम ये है कि 50 वर्षो से अधिक गुजरने के बाद भी पानी के लोए 1 km का सफर तय करना पड़ता है गुहाड पारा में न तो पानी सड़क , न ही बिजली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow Us

Follow us on Facebook Subscribe us on Youtube