रायपुर । छग विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन राजमाता देवेन्द्र कुमारी सिंहदेव को श्रद्धांजलि दी गई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह, अजीत जोगी ने राजमाता से संदर्भित बातों को सदन में रखा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राजमाता स्वयं अविभाजित मध्यप्रदेश शासन में दो बार कैबिनेट मंत्री रहीं। उनके पति आईएएस अधिकारी थे और मुख्य सचिव होकर सेवानिवृत्त हुए, लेकिन खुद आमजन के बीच उन्होंने अपने आप को रखा। राजमाता देवेन्द्र कुमारी सिंहदेव को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने कहा कि अविभाजित मध्यप्रदेश के समय उन्हें कई बार उनसे मुलाकात का अवसर मिला, लेकिन कभी अहसास मात्र तक नहीं हुआ कि वे किसी मंत्री या राज परिवार की महिला से मुलाकात कर रहें हैं, बल्कि हमेशा उन्हें पुत्रवत स्नेह मिलता रहा।
सभी प्रमुख वक्ताओं के बोलने के बाद अंत में संसदीय कार्यमंत्री रविन्द्र चौबे ने राजमाता को अपनी श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मांग रखी कि सरगुजा मेडिकल काॅलेज का राजमाता के नाम पर किया जाए। इस पर मुख्यमंत्री बघेल ने बगैर समय गवाएं, इस मांग पर अपनी सहमति व्यक्त करते हुए सदन में ही घोषणा कर दी कि सरगुजा मेडिकल काॅलेज राजमाता देवेन्द्र कुमारी सिंहदेव के नाम पर रखा जाएगा। इस घोषणा को लेकर पूरा सदन सहमत नजर आया।