रायपुर. प्रदेश में हो रहे किसानों के प्रदर्शनको खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने प्रायोजित, बतया था वही अब कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने भी इसे प्रायोजित करार दे दिया है .मंत्री चौबे केशकाल में किसानों पर हुए लाठी चार्ज को मानने से इंकार दिया है उन्होंने कहा कि प्रदेश में लाठी चार्ज की स्थिति नहीं है कही कही चक्का-जाम और प्र्दर्श्न्हुआ है उन्हें प्रशासन समझाने का प्रयाश की है .

मंत्री चौबे ने मंगालवार को प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि प्रदेश में कई जगहों पर बारदान की कमी है. उन जगहों पर तत्काल बारदाना पहुँचाने का निर्देश दिया जा चूका है .जिनका टोकन कट चूका है जिनका पंजीयन है वे अपना धान बेच सकते है जो असंतोष है वे प्रायोजित है .

अतिरिक्त राशि से दिया जाएगा समर्थन मूल्य

धान के समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसानों को देने की योजना पर कहा कि बजट में 5 हजार करोड़ के अतिरिक्त राशि की व्यवस्था की है. जिसके जरिए समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसानों को दी जाएगी. उप मंत्रिमंडलीय समिति ने नीतिगत तैयारी कर ली है मुख्यमंत्री के लौटते ही नाम तय किया जाएगा.

केंद्र को मध्यस्थता की भूमिका निभानी चाहिए

महानदी जल विवाद पर मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा इस संबंध में मेरी फ्लाइट में आते समय केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से चर्चा हुई है. उनसे आग्रह किया गया है कि ओडिसा और छत्तीसगढ़ को जितने जल की आवश्यकता है, उसका उपयोग करने दें. ट्रिब्यूनल में मामला कब तक खिंचता रहेगा. महानदी जल विवाद में केंद्र सरकार को मध्यस्थता की भूमिका निभानी चाहिए. केंद्रीय मंत्री ने इस आग्रह को स्वीकार किया है. कब तक इस विषय को आगे बढ़ाया जाता है, केंद्र पर निर्भर है