रायपुर। कोरबा के कटघोरा में एकाएक 8 कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान ने शासन और प्रशासन की नींद उड़ा दी है। स्वाभाविक तौर पर प्रदेश में भी खौफ का माहौल बन गया है। प्राप्त आंकड़ों के आधार पर करीब 16 लोग, जो तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे, वे छत्तीसगढ़ पहुंचे थे। इनमें से एक एम्स में दाखिल है, वहीं उसके संपर्क में आने से संक्रमित लोगों की संख्या 9 हो गई है। हालात को ध्यान में रखते हुए एम्स ने 52 और वेंटिलेटर मंगाए हैं, इससे एम्स में कुल वेंटिलेटर की संख्या 127 हो गई है। एम्स के पास पहले से 75 वेंटिलेटर मौजूद थे।
पीपीई किट को लेकर छग में थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के मुताबिक राज्य में केवल एक हजार पीपीई किट उपलब्ध हैं, जबकि आवश्यकता के मापदंड़ों को वर्तमान परिस्थितियोें में तय नहीं किया जा सकता। एम्स के डायरेक्टर डॉ नितिन नागरकर ने जानकारी देते हुए बताया कि कोरबा में केस सामने आने के बाद मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी होने की आशंका को देखते हुए 52 और वेंटिलेटर मंगाए गए है। वहीं अब एम्स में वेंटिलेटर की संख्या 127 हो गई है।

इधर राज्य सरकार ने कोरोना सैंपल का जांच बढ़ाया है। अब रायपुर मेडिकल कॉलेज में भी कोरोना संक्रमण की जांच होगी। माइक्रो बायोलॉजी डिपार्मेंट से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार से जांच शुरू होगी। वहीं, मेडिकल कॉलेज में एक दिन में 90 सैंपल की जांच की जा सकेगी।