दुष्कर्म और अपहरण की घटनाओं पर पूर्व सीएम रमन सिंह की सियासी टिप्पणी

रायपुर। बलोदाबाजार  में दो नाबालिक लड़कियां अपने ही पुरुष मित्र की  जाल में फस  कर दुष्कर्म की शिकार हो गई। मीडिया को मिली जानकारी के मुताबिक लड़कियां स्कूल से निकल कर अपने पुरुष मित्र से  मिलने गई थी जंहा उस मित्र के पांच साथियों ने नाबालिग लड़कीयों से दुष्कर्म किया।  हाल ही में हैदराबाद गैंग रेप और उन्नाव गैंग रेप जैसी घटना से देश उबर नहीं पाया है .छत्तीसगढ़ के बलोदाबजार जिले के सरसीवा जिले में एक और गैग रेप की घटना सामने आई है।

लेकिन इन सब मामलों में राज  नेता राजनीति करने से नहीं चुकत। सियासी रोटी सेंकने वालों ने दुष्कर्म जैसे मामलों में मानवता से हटकर इसे भी राजनीति का  मुद्दा बना लिय। रामन सिंह का यह बयान राजनीति से घिरा हुआ नजर आता  है। रमन सिंह के कार्यकाल में ही झीरम घाटी, नान घोटाला, विधायक खरीद फरोख्त जैसी घटना घटी, जिसकी आज भी जारी है।  एसे में रामन सिंह के 15  साल के कार्यकाल में सुरक्षा व्यवस्था  एक बड़ी खामी के रूप में सामने आई है।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रदेश में सामुहिक बलात्कार और अपहरण की घटना को लेकर प्रदेश सरकार के कानून व्यवस्था  पर सवाल  खड़ा किया है . प्रेसवार्ता लेकर पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है. मुख्यमंत्री नई भूमिका में आ गए है. दिल्ली में जाकर केंद्र को सुझाव देते हैं, दूसरे राज्यों में जाकर सुझाव देते हैं लेकिन अपने राज्य को लेकर क्या कर रहे हैं?

उन्होंने कहा कि एक हफ्ते में सामुहिक बलात्कार की चार घटनाएं घटी है. ये आश्चर्य है कि चार सामुहिक बलात्कार की घटना प्रदेश में घटी लेकिन मुख्यमंत्री की ओर से एक बयान नहीं आया. राजनांदगांव में बच्चे का अपहरण हुआ. इतना हौसला अपराधियों में बढ़ गया है कि घर के बाहर खेलते बच्चे का अपहरण हो गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *