रायपुर। माना इलाके में दूधमुंही बच्ची की हत्या में उसकी बड़ी मां का हाथ था। खुद की संतान ना होने से वह इस कदर ईष्र्या में आ गई कि उसे महज एक साल की गीतांजलि पर भी रहम नहीं आया और उसने सोती हुई मासूम को पानी के टंकी में डूबो दिया। हत्या के तीन दिनों बाद रायपुर पुलिस ने इस वारदात से पर्दा उठा दिया है।

तीन दिन पहले माना इलाके में एक बच्ची के पानी की टंकी में डूबने से मौत होने की खबर ने सनसनी फैला दी थी। यह तो तय था कि उस दूधमुंही की हत्या की गई है, लेकिन हत्यारा कौन है, इसकी तलाश बाकी थी। पुलिस लगातार इस प्रयास में लगी रही, आखिरकार इस मामले में सफलता हाथ आ ही गई। चैंकाने वाली बात यह थी कि हत्या किसी और ने नहीं, बल्कि उस मासूम की सगी बड़ी मां ने की है।

हत्या की आरोपी राजेश्वरी का विवाह तीन साल पहले अनुज साहू से हुआ था, लेकिन उनकी कोई संतान नहीं थी, जिसका इलाज भी चल रहा था। वहीं साथ में अनुज के छोटे भाई की मनोज का विवाह नीलम से हुआ था और उनकी एक बेटी गीतांजलि का जन्म हो गया जो एक साल की हो चुकी थी। इस बात से राजेश्वरी को ईष्र्या होने लगी थी। इसी जलन के चलते उसने मौका देखकर मासूम गीतांजलि पर अपन गुस्सा निकाला और उसे सोते हाल में घर के छत पर पानी की टंकी में डाल दिया, उसपर लकड़ी का गुटका रख दिया। जिसकी वजह से उस मासूम की वहीं मौत हो गई।