नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का एक बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने देश के विभिन्न राज्यों में फंसे श्रमिकों का यात्रा वहन प्रदेश कांग्रेस को करने का फरमान जारी किया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने इस विषय पर केंद्र सरकार को आड़े हाथ लेते हुए जमकर निशाना साधा। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने लॉक डाउन में फंसे मजदूरों के लिए घर लौटने की व्यवस्था नहीं करने पर सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि 1947 के बटवारे के बाद देश ने पहली बार यह दिल दहलाने वाला मंजर देखा है। राष्ट्र निर्माण के इन दूतों के साथ अन्याय हुआ है। इसलिए कांग्रेस अपने घरों को लौट रहे श्रमिकों का रेल किराया वहन करेगी। जारी किए गए बयान में इन मजदूरों का उनके घर तक जाने का रेल किराया देने का ऐलान करते हुए कहा कि सरकार मुश्किल में फंसे देश के लोगों के प्रति अपने कर्तव्य का निर्वाह करने में असफल हुई है।


इसके कारण आज भी लाखों श्रमिक तथा कामगार पूरे देश के अलग-अलग कोनों से असहाय होकर घर वापसी का इंतजार कर रहे हैं। वे अपने घर जाना चाहते हैं लेकिन उनके पास न साधन है और न पैसा। उन्होंने कहा कि दुख की बात यह है कि रेल मंत्रालय इन मेहनतकशों से मुश्किल की इस घड़ी में रेल यात्रा का किराया वसूल रहे हैं। यह आश्चर्य की बात है जो रेल मंत्रालय प्रधानमंत्री के कोरोना फंड में 151 करोड़ रुपये का सहयोग दे सकता है वह तरक्की के इन ध्वजवाहकों को आपदा की इस घड़ी में निरूशुल्क रेल यात्रा की सुविधा देने की व्यवस्था क्यों नहीं कर रहा है। वही कांग्रेसी इस बयान को सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल कर रहे है।