रायपुर। लाॅक डाउन की वजह से प्रदेशभर की शराब दुकानों में करीब 37 दिनों से ताला लटका हुआ है। लोग प्रदेश छोड़कर दूसरे राज्यों से भी मदिरा का इंतजाम नहीं कर सकते, क्योंकि ना तो जाने की अनुमति मिलेगी और यदि छिपकर निकलने की सोच भी लें, तो भी हासिल शून्य ही आना है। दूसरी तरफ इस शराबबंदी से राज्य की महिलाएं काफी ज्यादा खुश हैं। एक तरह से उनकी मिन्नत को भगवान ने मानों सुन ली है। छग के बालोद जिले की करीब डेढ़ सौ महिलाओं ने इस शराबबंदी पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम पर चिट्ठी भी लिखी है, जो जल्द ही सीएम को मिलने वाली है।

इन महिलाओं ने लाॅक डाउन के दौरान शराब की दुकानों को बंद करने के लिए सरकार को धन्यवाद दिया है। इन महिलाओं का कहना है कि इस बंदी की वजह से उनके जीवन में सुखमय बदलाव आया है। यह चिट्ठी बालोद जिले के ग्राम देवरी की महिलाओं ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम लिखी है। उनका कहना है कि वे इसी तरह का जीवन चाहती हैं, जिसके लिए जरूरी है कि लाॅक डाउन के बाद भी प्रदेश भर में शराब की दुकानों को बंद रखा जाए।

इन महिलाओं ने चिट्ठी के माध्यम से मुख्यमंत्री को बताया है कि शराब नहीं मिलने की वजह से गांव के लोग ना तो घर पर झगड़ा-झंझट करते हैं और ना ही गांव में किसी से अनावश्यक बात पर उलझते हैं। बल्कि इस शराबबंदी की वजह से पूरे गांव का माहौल खुशनुमा हो गया है, तो उम्मीद है कि प्रदेशभर में इसी तरह की खुशहाली छाई होगी।