रायपुर। राजधानी के कुशालपुर इलाके में दो दर्जन अप्रवासी मजदूरों को एक स्थान पर बैठे देखा गया है। इन मजदूरों से की गई पूछताछ के बाद जानकारी सामने आई है कि ये लोग हैदराबाद से कोलकाता के लिए रवाना हुए हैं। इस लंबी दूरी को इन्होंने पैदल और बीच-बीच में ट्रकों के सहारे पूरा किया है। टूटी-फूटी हिन्दी में जो कुछ इन्होंने बताया, उसके मुताबिक हैदराबाद में रोजगार के लिए गए हुए थे, लेकिन अब वहां पर कोई काम नहीं मिल रहा है, जिसकी वजह से ये लोग कोलकाता लौट रहे हैं।
इन अप्रवासी मजदूरों की टोली में चार महिलाएं भी शामिल हैं। इन्होंने बताया कि रायपुर में आने से पहले तक इन्हें कहीं किसी ने नहीं रोका और ना ही किसी तरह की पूछताछ हुई हैं। उन्होंने बताया कि इतने लंबे सफर के बाद पहली बार उनसे इस तरह की पूछताछ हो रही हैं। कोरोना वायसर को लेकर उनसे किए गए सवाल में इन मजदूरों ने बताया कि उन्हें इसकी जानकारी तो है, लेकिन ज्यादा कुछ नहीं जानते।

बता दें कि बीती रात ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस संबंध में आदेश जारी किया है कि राज्य की सीमा में दाखिल होने से पहले प्रत्येक व्यक्ति को अपनी पूरी जानकारी चेक पोस्ट पर देनी है, साथ ही स्वास्थ्य परीक्षण कराना है, लेकिन बीते 12 घंटों के भीतर अप्रवासी मजदूरों की दो टोली राजधानी पहुंची है, जिन्हें किसी भी तरह के जांच का सामना नहीं करना पड़ा है।

जिस तरह से प्रदेश की सीमा के भीतर प्रभावित प्रदेशांें के लोग लगातार दाखिल हो रहे हैं, राज्य के लिए खतरा बढ़ता जा रहा है। गौर करने वाली बात यह है कि इन 24 घंटों के भीतर राज्य में 11 नए कोरोना पाॅजिटिव मरीज सामने आए हैं। ये मरीज भी अप्रवासी हैं। लिहाजा प्रदेश की सरहदी जिलों को खासतौर पर अलर्ट होने की जरूरत महसूस की जा रही है।