सीनियर पत्रकार अनुज गुप्त की हरिद्वार में मौत, आत्माहत्या या हत्या में उलझा मामला

रायपुर। मशहूर पत्रकार और छत्तीसगढ़ के सीनियर जर्नलिस्ट अनुज गुप्ता की मौत ने सभी को चौका दिया है उनकी  मौत को लेकर कई तरह बातें सामने आ रही है .अनुज गुप्ता अपने घर से बिना बताए हरिद्वार चले गये थे .जिसके बाद वे होटल में कुछ देर ठहरे फिर एक दिन बाद उनकी लाश को गंगा नदी से बहार निकला गया। अनुज जिस रम में रुके थे उसे जब खोला गया तो सबके होश उड़ गए रूम का बिस्तर खून से सना हुआ था, लेकिन वे रूम पर नहीं थे। उनकी मौत हत्या से हुई है या आत्महत्या या गुत्थी अभी सुलझ नहीं पाई है पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

 

अनुज गुप्ता घर से बिना बताए हरिद्वार चले गए थे। यहां वह जीएसए गेस्ट हाउस में ठहरे हुए थे। परिजनों ने दिल्ली में अनुज की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस तभी से उनकी तलाश में जुटी हुई थी। वहीं, हरिद्वार के जिस गेस्ट हाउस में वह ठहरे हुए थे, वहां से भी वह रविवार की देर रात संदिग्ध परिस्थितियों में किसी को बिना बताए कमरा लॉक कर कहीं चले गए थे।

रविवार को चेकआउट का समय होने के बाद होटल द्वारा रूम में फोन किया गया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। रूम खोलने की कोशिश की गई तो वह लॉक मिला। इसके बाद होटल प्रबंधन ने अनुज द्वारा दिए गए मोबाइल फोन पर संपर्क किया तब पता चला कि वह घर से बिना बताए निकले हैं।

इसके बाद होटल प्रबंधन ने पुलिस को सूचना दी। जब कमरा खोला गया तो पुलिस के भी होश उड़ गए। कमरे में बेड की चादर और तकिए सहित बाथरूम में खून ही खून पड़ा था, मगर अनुज कुमार गुप्ता रूम में मौजूद नहीं थे। पुलिस द्वारा जब सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई तो पता चला कि वह देर रात होटल के स्टाफ को बताए बिना वहां से चले गए थे। अब उनकी मौत के बाद पूरा मामला उलझ गया है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

अनुज कोरबा के रहने वाले हैं। अविभाजित मध्यप्रदेश के दौरान वे नवभारत समाचार पत्र के लंबे समय तक भोपाल ब्यूरो चीफ रहे। वे सियासी गलियारों में काफी प्रभावशाली पत्रकार माने जाते थे। अविभाजित मध्यप्रदेश के समय भोपाल में उनकी तूती बोलती थी। बाद में वे दिल्ली शिफ्थ हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *