रायपुर. सीएम बघेल ने आज पीएम को ख़त लिख कर आपत्ति जताई है सीएम ने पत्र में कहा कि आईटी का छापा छत्तीसगढ़ में असवैधानिक और इसमें क्रन्द्र बल का प्रयोग द्र्भाग्य्पूर्ण और क़ानूनी नजरिये से गलत बताया है, साथ ही इस पुरे कर्रवाई को राजनीति से प्रेरित बताया है.

मुख्यमंत्री बघेल ने पत्र में छत्तीसगढ़ में बीते चार दिनों से चल रहे छापे को चौंकाने वाली घटना करार देते हुए प्रधानमंत्री का ध्यान सहकारी संघवाद (कोऑपरेटिव फेडरलिज्म) की ओर दिलाया. उन्होंने कहा कि भारत सरकार के एजेंसियों की यह कार्रवाई एक ओर राजनीतिक प्रतिशोध है, तो दूसरी ओर हमारे संघवाद के मूल के लिए खतरा है.

भूपेश बघेल ने नरेंद्र मोदी को पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर याद दिलाया कि किसी भी राज्य में न्याय और व्यवस्था का दायित्व राज्य सरकार का होता है, ऐसे में केंद्रीय बल राज्य में बिना राज्य सरकार की सहमति और पूर्व अनुमति के केंद्रीय बल की तैनाती नहीं की जा सकती है. और हमारे संवैधानिक लोकतंत्र की इस मूल सिद्धांत का पालन करने में असफल रहे तो हम अलोकतांत्रिक अराजकता आ जाएगी.

तीन पन्नों के पत्र के अंत में मुख्यमंत्री ने दलों की विचारधारा में विरोध के बावजूद राज्य की प्रत्येक जनता के विकास के लिए अपने को समर्पित बताते हुए सहकारी संघवाद की भावना को बरकरार रखते हुए प्रधानमंत्री से आवश्यक कदम उठाने की बात कही.

https://lalluram.com/wp-content/uploads/2020/03/WhatsApp-Image-2020-03-02-at-13.47.15.jpeg

शेयर करें: