रायपुर। मुख्यमंत्र भूपेश बघेल के निर्देशन पर कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में सेनिटाईजर की उपलब्धता सुनिश्चित करने स्वास्थ्य विभाग के तकनीकी सहयोग से प्रदेश में सात डिस्टिलरीज और 13 जिलों में 41 महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा अब तक 3 लाख 35 हजार 405 लीटर सेनिटाईजर का निर्माण हो चुका है। इनमें से 2 लाख 34 हजार 96 लीटर सेनिटाईजर निःशुल्क एवं किफायती दर पर वितरित किया जा चुका है। इससे इस महामारी को रोकने में काफी मदद मिली है।

प्रदेश में 7 आसवनी में सेनिटाईजर तैयार किया जा रहा है। आसवनी के 453 कर्मचारियों द्वारा 3 लाख 32 हजार 863 लीटर सेनिटाईजर और छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के 41 स्व-सहायता समूहों की 213 महिला सदस्यों द्वारा 2 हजार 541 लीटर सेनिटाईजर का निर्माण किया गया है। आसवनियों में निर्मित सेनिटाईजर की आपूर्ति भिलाई स्टील प्लांट, एम्स, एसईसीएल, नगर निगम एवं अन्य रिटेल थोक विक्रेताओं के साथ ही हरिरमानी डिस्ट्रिब्यूटर्स बिलासपुर, अमित ट्रेड बिलासपुर, नगर पंचायतों, ग्राम पंचायत, स्वास्थ्य विभाग, विभिन्न शासकीय विभागों, थोक एवं खुदरा औषधि विक्रेताओं को की गई है।
आबकारी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सेनिटाईजर का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक दुर्ग जिले में मेसर्स छत्तीसगढ़ डिस्टिलरिज लिमिटेड खपरी-कुम्हारी में 200 कर्मचारियों द्वारा 96 हजार 700 लीटर और मेसर्स स्वर्णा होम केयर प्राॅडक्ट में 10 कर्मचारियों द्वारा 36 हजार लीटर सेनिटाईजर का निर्माण किया गया है। बिलासपुर जिले में मेसर्स वेलकम डिस्टिलरीज प्राईवेट लिमिटेड छेरकाबांध-कोटा में 180 कर्मचारियों द्वारा 54 हजार 849 लीटर, मुंगेली जिले में मेसर्स भाटिया वाईन मर्चेन्ट्स प्राईवेट लिमिटेड ग्राम धूमा में 35 कर्मचारियों द्वारा एक लाख 7 हजार 362 लीटर सेनिटाईजर तैयार किया गया है। रायपुर जिले में मेसर्स एलन्स ड्रन्स सुपुर स्टेट न्य पुरेना रायपुर में 3 कर्मचारियों द्वारा 11 हजार 25 लीटर, मेसर्स ट्रांसप्लेक्स जवाहर नगर रायपुर में 8 कर्मचारियों द्वारा 21 हजार 185 लीटर और मेसर्स ओपीजी फार्मा सिलतरा में 11 कर्मचारियों द्वारा 5 हजार 742 लीटर सेनिटाईजर का निर्माण किया गया है।
इसी तरह राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत दुर्ग जिले में 12, बलौदाबजार जिले में 6, रायगढ़ जिले में 5, दंतेवाड़ा जिले में 4, सूरजपुर जिले में 4, बालोद जिले में 3 और धमतरी, सरगुजा, जांजगीर, कबीरधाम, गरियाबंद, कोरबा और कांकेर जिले में एक-एक स्व-सहायता समूहों द्वारा स्वास्थ्य विभाग के तकनीकी सहयोग से 2 हजार 541 लीटर सेनिटाईजर का निर्माण किया गया है।