गरियाबंद जिले मैनपुर विकासखंड के गरीबा गांव में उल्टी दस्त की बीमारी फैलने से 26 लोग बीमार हो गए हैं। जिसमे महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग भी शामिल है।। इस खबर के बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया। बताया जाता है कि एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद अचानक करीब 26 ग्रामीणों की तबियत बिगड़ गई। आनन-फानन में सूचना मिलते ही जिला पंचायत उपाध्यक्ष संजय नेताम की सूचना पर मैनपुर स्वास्थ्य विभाग की टीम शुक्रवार को गरीबा गांव पहुंची। गांव में शिविर लगाकर मरीजो की जांच की गई। जिसमे बड़ी संख्या में मरीज सामने आए है।इलाज के लिए जिला चिकित्सालय से डॉ लक्ष्मीकांत जांगड़े, डॉ विमोर सक्सेना, डॉ शंकर, डॉ लम्बोदर महतो और मैनपुर से डॉ कालेश्वर नेगी, डॉ संतोष पाटकर की टीम गांव में मौजूद है।,एवं अधिक गंभीर हालत में 11 लोगों को गरियाबंद चिकित्सालय लाया गया, फिलहाल सभी का इलाज जारी है।

जिला मुख्य चिकित्साधिकारी एनआर नवरत्न ने बताया कि शादियों में अनियमित खान के चलते ग्रामीण पेटदर्द और उल्टी दस्ती की बीमारी के शिकार हुए है। गरीबा में कुल 26 मरीज सामने आए है। 11 मरीजो को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया है। 15 लोगो का इलाज गांव में जारी है। उन्होंने बताया कि फिलहाल सभी मरीजो की हालत सामान्य है। गांव में स्थिति नियंत्रण में है। उन्होंने ग्रामीणों को पानी उबालकर पीने की सलाह दी है।

वही एक ग्रामीण ने बताया कि गांव में पेयजल की समस्या के कारण ग्रामीण कुंए का पानी उपयोग कर रहे है। पिछले दो दिनों से गांव में उल्टी दस्त की शिकायत मिल रही है। उन्होंने इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग और जिला पंचायत उपाध्यक्ष को दी। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग का अमला गांव पहुंचा।