रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र के दौरान आज कांग्रेस के विधायक अरुण वोरा ने प्रदेश में शिशु मृत्यु दर को लेकर सवाल किया। अरुण वोरा ने प्रदेश के मेडिकल कॉलेज में 2017 से 2019 में कुल कितने शिशुओं की मृत्यु हुई और उसकी क्या वजह थी को लेकर सवाल किया। इस पर मंत्री टीएस​ सिंहदेव से जवाब मांगा। इस पर मंत्री टीएस सिंहदेव ने जवाब देते हुए कहा कि यह संवेदनशील विषय है। सरकार शिशु मृत्यु दर में कमी के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके बाद मंत्री ने सदन में आंकड़े पेश किए। आंकड़ों में नजर डाले तो 2017 – 18.24, 2018 – 18.63, 2019 – 16.66 है।

इसके बाद सत्तारुढ़ पार्टी कांग्रेस के विधायक आशीष कुमार छाबड़ा ने सदन में सवाल किया। उन्होंने जनपद पंचायत बेरला के सीईओ के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। बताया कि सीईओ के विरुद्ध अवैध वसूली के मामले उजागर हुए हैं लेकिन अभी तक कार्रवाई नहीं हुई है। पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव ने जवाब में कहा कि पूरे मामले में कार्यवाही होगी। अगर आवश्यकता पड़ी तो सस्पैंड भी किया जायेगा। बता दें कि अजीत जोगी ने भी सस्पैंड करने की मांग की है।

इसके बाद जेसिसीजे विधायक धर्मजीत सिंह ने एसआईट के गठन को लेकर गृहमंत्री से सवाल किया। मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि 5 एसआईटी का गठन भाजपा शासनकाल में किया गया था। मंत्री के जवाब को सुनने के बाद बीजेपी के विधायक सदन में शोर मचाना शुरू कर दिया। विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि वे भी जानना चाहते है कि एक मामले में 6 एसआईटी का गठन करने की जरुरत क्यों पड़ी।