रायपुर। कोविड-19 को लेकर आशंकाओं के बादल लगातार मंडरा रहे हैं। हालांकि छग इस मामले में देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे बेहतर स्थिति में हैं। पड़ोसी राज्यों में जहां लगातार मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है, मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है, वहीं छग में अब तक केवल 36 कोरोना पाॅजिटिव मरीज सामने आए हैं, जिसमें से 23 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं, तो 13 मरीजों को स्वास्थ्य लाभ दिया जा रहा है। वहीं लगभग 75 हजार संदेहियों की जांच की गई है, जिनके रिपोर्ट नेगेटिव आए हैं। सबसे अच्छी और राहत वाली खबर यह है कि इस बीच किसी एक को खोने की नौबत नहीं आई है।
राहत की इस खबर के बावजूद भावी संभावनाओं को ध्यान में रखकर, जबकि प्रदेश की राजधानी में एम्स और डीकेएस जैसे बडे़ अस्पताल हैं, माना में 200 बिस्तरों का अस्पताल तैयार कराया गया है। आज स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव इस अस्पताल का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने बताया कि मरीज बढ़ने की स्थिति में अब एम्स के साथ-साथ यहां भी भर्ती किए जाएंगे। करीब ढाई करोड़ खर्च कर केवल 20 दिनों में माना सिविल अस्पताल की बिल्डिंग को कोरोना अस्पताल में तब्दील कर लिया गया है। अस्पताल के एक हिस्से में सीसीटीवी कैमरा लगाने से लेकर 12 वेंटिलेटर के साथ आईसीयू से सेमी आईसीयू और महिला पुरुष वार्ड बना लिया गया है गंभीर मरीजों के लिए अलग से आइसोलेशन वार्ड भी तैयार है।