रायपुर. प्रदेश में आयकर विभाग के छापेमार कार्रवाई को लेकर कांग्रेस के राष्ट्रिय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाल और प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया  द्वारा लगये आरोपों को लेकर डॉ.रमन सिंह का बयान सामने आया है. रमन सिंह ने अपने बयान में कहा की इतनी बैचैनी मैंने पहले कभी नहीं देखी. प्रदेश लेकर दिल्ली तक कार्रवाई से हिल गई है आईटी का छापा तो समान्य प्रक्रिया है इसमें छटपताहट क्यों इसका जवाब मुझे नहीं मिल रहा है. जिनके पास अघोषित संपत्ति है तो उनके खिलाफ करवाई होगी.

केंद्र से आए हुए आयकर की टीम ने रायपुर के 32 जगहों पर छापामार कार्रवाई की लगभग 4 दिनों तक चली इस कार्रवाई से प्रदेश की सरकार अस्थिर हो गई है. कांग्रेस ने इस कर्रवाई को षड्यंत्र बता रही है वही इसे राजनीतिक से भी जोड़ कर देख जा रहा है. कारवाई को लेकर बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं ने अपना ब्यान दिया है . दिल्ली में प्रेसवार्ता लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और प्रदेश प्रभारी पी एल पुनिया द्वारा लगाए गए आरोपों पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि आईटी का छापा पहली बार नहीं पड़ा है. इससे पहले यूपीए और एनडीए की सरकार थी, तब भी ऐसी कारवाई हुई थी. रमन की सरकार थी, तब भी ऐसे कारवाई हुई है. यह प्रक्रिया है, जो भी इंक्वायरी और इंफॉर्मेशन होगी, उस पर देशभर में कार्रवाई होती रहती है, इसे राजनीति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.

रणदीप सुरजेवाला के पैनामा लिक्स मामले में आरोप को लेकर डॉ. रमन सिंह ने कहा कि उनको मूल विषय पता ही नहीं. भूपेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद कई बार कैबिनेट की बैठक में कई मामलों में एसआईटी का गठन कर जांच की गई, वैसे ही इस पूरे मामले में दूध का दूध पानी का पानी हो चुका है. संघीय ढांचे पर कुठाराघात के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस पर कुठाराघात तब होता है, जब कांग्रेस द्वारा आईटी के छापे पर प्रदर्शन किया जाता है.

मुख्यमंत्री के सरकार गिराने वाले बयान पर उन्होंने कहा कि क्यों कोई सरकार गिराएगा. आईटी की रेड से यदि सरकारें गिरती तो देश भर में कोई सरकार ही नहीं रहती. वहीं ईमानदार सरकार पर सवाल उठाने पर उन्होंने कहा कि ईमानदार सरकार है तो आईटी की रेट से क्यों डर रहे हैं. ईमानदारी से सारे काम दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा.