धमतरी. अस्पताल में जहां इंसान अपने आप को डॉक्टर का कृतज्ञ मनाता है, वंहा अगर डाक्टर इंसानियत की सीमा लांघ जाए तो यकीन  ही नहीं होता की ऐसा भो हो सकता है ऐसा ही मामला धमतरी जिले मगरलोड का जंहा एक डाक्टर ने  समय बीत जाने का पला झाड़ते हुए मृत महिला का पोस्टमार्टम करने से इंकार दिया. मृत महिला के परिजन और पुलिस वाले भी डाक्टर से पीएम की गुहार लगते रहे लेकिन डॉक्टर ने किसी भी ना सुनी और महिल का श्व रात भर मरचुरी में पड़ा रहा.

दरअसल 27 फरवरी को ग्राम मंडली निवासी शंकुंतला कमार हमेशा शारीरिक कारणों से परेशान रहती थी. शकुंतला का कोई बच्चा भी नहीं था जिसकी वजह से वह अपने पति को दूसरी शादी करने की इजाजत दी थी. परेशान  होने के कर्ण महिला ने ख़ुदकुशी करने का कदम उठाया और इसकी जानकारी अपने पति को भी दे दी पति जब तक घर पहुंचा तब तक महिला जहर का सेवन कर चुकी थी. जिसे आनन फानन में तुरंत मगरलोड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र  पहुँचाया गया. जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. शव को पोस्टमार्टम के लिए शाम के समय चार बजे मरचुरी ले जाया गया  महिला के  परिजनों और पुलिस कर्मचारी ने ड्यूटी में तैनात महिला डाक्टर पुष्पा जनबंधु से शव के पोस्टमार्टम के लिए निवेदन किया लेकिन समय बीत जाने का बहाना दते हुए डाकटर ने पोस्टमार्टम करने से इनकार कर दिया. जबकि पोस्टमार्टम का अंतिम समय शाम के 6 बजे तक रहता है. हाला की दूसरे दिन महिला का पोस्टमार्टम हुआ. तब जा कर महिला का अंतिम संस्कार हुआ.

वही इस मामले में विकासखंड चिकित्सा अधिकारी शारदा ठाकुर ने कहा कि मैं मीटिंग में धमतरी गई थी मैं इस बात की जानकारी उच्च अधिकारी से करुँगी.