लोहारा तहसील स्तरीय सर्व ब्राम्हण समाज हो रहे संगठित

लोहारा तहसील स्तरीय सर्व ब्राम्हण समाज हो रहे संगठित

महाराष्ट्र / लोहारा। लोहारा नगर स्थित दक्षिणमुखी श्री हनुमान जी के मंदिर प्रांगण में ब्राम्हण समाज के वरिष्ठ नागरिक और युवा का बैठक श्रावण शुक्ल पक्ष तृतीया तिथि को रात्रि 8 बजे आहूत किया गया था।

बैठक का प्रारंभ ॐ नम: शिवाय के गुंजन, गणपति जी के ध्यान और श्रीराम जय राम जय जय राम कीर्तन करके प्रारंभ किया गया। बैठक के मुख्य दो विषय थे

पहला लोहारा नगर में तहसील स्तरीय सर्व ब्राम्हण समाज का भव्य भवन हो और दूसरा क्यों छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री के पिता नंद कुमार ब्राम्हणों को बार-बार अनाप-शनाप बोलकर अपमानित कर रहें? उक्त दोनों विषयों पर बैठक में शामिल हमें विप्रबंधुओं ने अपने विचार प्रस्तुत कियें।

भाटकुन्डेरा के शारदा मिश्रा ने कहा कि सभी भूदेव को सपरिवार तन-मन-धन से संगठित होना चाहिए, शोभेन्द्र शुक्ला हनुमान मंदिर के आचार्य ने

कहा कि युवाओं को समाजहित में आगे आकर सहयोग करना चाहिए, नागेन्द्र मिश्रा ने सामाजिक कार्य को आगे बढ़ाने के लिए हर संभव सहयोग का वादा किया,

डाॅक्टर प्रशांत शर्मा ने कहा कि लोहारा तहसील के प्रत्येक गांव के ब्राम्हण को समाज के जोड़ने पर ही समाज सुरक्षित और संगठित हो पाये,

अरविन्द पाण्डेय क्रीडा शिक्षक दरिगंवा ने कहा की मैं सभी के विचारों से पूर्ण सहमत हूं और विप्र भवन के लिए तत्काल संगठित होकर कार्य करें और ब्राम्हणों को धर्मपरायण होकर अपने कर्तव्यों का सतत पालन करना चाहिए।

विजय शर्मा ने कहा कि विप्र भवन भव्य होना चाहिए और ब्राम्हणों को गाली देने वाला कोई भी हो सबक सिखाना आवश्यक है। ब्राम्हणों का परम कर्तव्य है कि वे अन्य समाज को सही दिशा और सनातनी हिन्दूओं को भी एकजूट करें।

अवधेश पाण्डेय ने कहा कि यदि सिर्फ लोहारा नगर के 350-400 ब्राम्हण संगठित हो गये तो ब्राम्हणों को गाली देने की कोई हिम्मत नही कर पायेगा।

कमलकांत मिश्रा, पवन शर्मा, संदीप पाण्डेय, शंकर पाण्डेय, अनिल मिश्रा, अजय मिश्रा, संदीप मिश्रा, संतोष मिश्रा, राजेश मिश्रा ने तत्काल ठोस कदम उठाने पर जोर दिया।

वरिष्ठ ब्राम्हण और राजपुरोहित द्वारिका प्रसाद दुबे ने सभी को आशीर्वाद दिया कि सफलता अवश्य मिलेगा संघे शक्ति कलयुगे।

बैठक के अंत में पुलिस विभाग से सेवानिवृत्त हुये विनोद तिवारी को “गर्व से कहो मैं ब्राम्हण हूं” साहित्य और पारिजात का पौधा भेंट कर सम्मानित किया गया। सभी ब्राम्हणों ने अपने निवास में पारिजात का पौधा लगाने के लिए ले गये।

बैठक में छोटू तिवारी, पूर्णानंद मिश्रा, सोमू मिश्रा, रवि मिश्रा, काव्य शुक्ला, संतोष मिश्रा, राजेश मिश्रा, संदीप मिश्रा, अंशुमान पाण्डेय, देव मिश्रा, शारदा मिश्रा, शंकर प्रसाद पाण्डेय, पंकज शुक्ला,

इंद्रनारायण दूबे, अनिल कुमार मिश्रा, नागेन्द्र मिश्रा, संदीप पाण्डेय, प्रशांत सागर शर्मा, द्वारिका दुबे, रामेन्द्र प्रसाद तिवारी, अरविन्द पाण्डेय, पवन शर्मा, सूर्यकांत पाण्डेय, सुनील कुमार पाण्डेय, सुयश पाण्डेय और विजय शर्मा उपस्थित रहे।

अगला बैठक गुरूवार को हनुमान मंदिर में रात्रि 8 बजे रखा है जिसमें ब्राम्हणों को गोडसे, विदेशी और ढोेंगी कहने वाले नंदकुमार बघेल को सबक सिखाने के लिए रखा गया है जिसमें लोहारा तहसील के विप्र बंधु अवश्य पधारें।