मानसून फूड फेस्टिवल जश्न-ए-जायका 7-8 अगस्त को

मानसून फूड फेस्टिवल जश्न-ए-जायका 7-8 अगस्त को

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल में बदलाव की बयार बह रही है। मंडल नव प्रयोग कर पर्यटकों को आकर्षित कर रहा है। राज्य सरकार ने पर्यटन मंडल और पर्यटकों के बीच नजदीकी बढ़ाने बहुत से अहम फैसले लिए हैं,

जिनका सकारात्मक परिणाम सामने आना शुरू हो गया है। पर्यटकों की संख्या में भारी बढ़ोत्तरी हुई है। पर्यटन मंडल की कोशिश है

कि अधिक से अधिक संख्या में पर्यटकों को आकर्षित किया जाय ताकि पर्यटन को बढ़ावा मिले। पर्यटन से स्थानीय व्यवसाय को भी प्रोत्साहन मिलता है।

इसी कड़ी में पर्यटन मंडल द्वारा छत्तीसगढ़िया व्यंजन को बढ़ावा देने 23 जुलाई से मानसून फूड फेस्टिवल जश्न ए जायका की शुरुआत चार पर्यटन स्थलों में की गई है। इसी तारतम्य में दंडामी रिसोर्ट चित्रकूट में 7-8 अगस्त को जश्न ए जायका का आयोजन किया गया है।

छत्तीसगढ़ के बस्तर के पर्यटन अधिकारी राम नारायण तिवारी का कहना है कि छत्तीसगढ़िया व्यंजन को बढ़ावा देने छत्तीसगढ़ सरकार के पर्यटन विभाग की पहल पर मानसून फूड फेस्टिवल का आयोजन भारतीय वन सेवा के अधिकारी व पर्यटन मंडल के प्रबंध संचालक अनिल साहू की विशेष निगरानी में छत्तीसगढ़ में चार स्थानों पर किया जा रहा है,

जिसके तहत् बस्तर की नियाग्रा कहे जाने वाले चित्रकोटट के दंडामी माड़िया रिसोर्ट में छत्तीसगढ़िया व्यंजन पर आधारित व्यंजनों का स्टाल लगाया जा रहा है।

पर्यटन मंडल द्वारा आयोजित इस मानसून फूड फेस्टिवल में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने की अपील की गई है। पर्यटन अधिकारी तिवारी ने बताया कि फेस्टिवल में छत्तीसगढ़ के व्यंजनों का स्टाल लगाया जायेगा

जिसमें स्थानीय स्तर पर बनाए जाने वाले व्यंजनों के प्रति भी लोगों का दिलचस्पी बढ़े, बाहरी पर्यटक छत्तीसगढ़िया व्यंजन के बारे में अधिक से अधिक जानकारी हासिल कर सकें और इसका लुत्फ उठा सके।