राजनांदगांव, डोंगरगढ़। जानलेवा कोरोना वायरस देश और दुनिया में फैल चुका है।​ जिसके चलते भारत के अलग-अलग राज्यों में नियमों को सख्ती से लागू किया जा रहा है। स्कूल, कॉलोजों और सिनेमा हॉल सहित अन्य जगहों को बंद करने के आदेश जारी करने के बाद अब डोंगरगढ़ में दर्शनार्थियों के मंदिर में प्रवेश पर भी रोक लगा दी है।

दरअसल कोरोना के असर के चलते चैत्र नवरात्र में मां बम्लेश्वरी मंदिर के दर्शन पर प्रशासन ने रोक लगा दी है। चैत्र नवरात्र के पहले दिन यानी 25 मार्च से 2 अप्रैल तक दौरान मंदिर में भक्तों के प्रवेश पूर तरह से बंद रहेंगे। बता दें कि इसस पहले प्रशासन में डोंगरगढ़ में मेला नहीं लगाने का आदेश जारी किया था, वहीं अब मंदिर दर्शनार्थियों के प्रवेश पर रोक लगा दी है। केवल मंदिर के पुजारी ही पूजा पाठ कर सकेंगे। दर्शनार्थियों को मन्दिर जाने की अनुमति नहीं।

कलेक्टर ने लोगों से की है अपील
जिला प्रशासन के अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों सहित मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों की बैठक में निर्णय लिया गया कि कोरोना के चलते डोंगरगढ़ में चैत्र नवरात्रि के दौरान मेले पर प्रतिबंध रहेगा। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने लोगों से ये भी अपील की है कि असुविधा से बचने के लिए वे डोंगरगढ़ न आएं। वहीं आने वाले श्रद्धालुओं को सैनेटाइजर खुद लाना होगा। वहीं डॉक्टरी जांच के बाद ही लोगों को डोंगरगढ़ में मां बम्लेश्वरी का दर्शन करने दिया जाएगा। लोगों को मास्क और सेनेटाइजर भी लाना जरुरी होगा।

चेकिंग प्वाइंट में श्रद्धालुओं की जांच की जाएगी। होटल और लॉज संचालकों को बाहर से आए लोगों की सूचना भी देनी होगी।कोरोना के चलते इस साल रेलवे ने स्पेशल ट्रेन नहीं चलाने का भी फैसला किया है।