पात्र हितग्राहियों को ही मिले नजूल भूमि का पट्टा – कलेक्टर

अम्बिकापुर।शहर के झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों को राजीव गांधी आश्रय के तहत स्थाई पट्टा देने में पूरी सतर्कता के साथ सर्वेक्षण करें ताकि वास्तविक नजूल कब्जाधारी व्यक्ति को ही पट्टा मिल सके। उन्होंने नजूल भूमि के सर्वेक्षण हेतु द्विस्तरीय टीम गठित करने कहा। कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक में अधिकारियों को यह निर्देश दिये।

कलेक्टर ने बताया कि राज्य शासन के निर्देशानुसार कोई भूमिहीन व्यक्ति नगरीय क्षेत्रों में सड़क, तालाब, नहर, फैक्ट्री, सार्वजनिक उपयोग की भूमि पर काबिज है तो उस भूमि की पट्टे की पात्रता नहीं होगी। ऐसे भूमि के काबिज व्यक्तियों को अन्य स्थान पर व्यवस्थापित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि राजीव गांधी आश्रय योजना के तहत 19 नवम्बर 2018 को शहरी क्षेत्रों में शासकीय नजूल, स्थानीय निकाय, विकास प्राधिकरण की भूमि में निवास वाले आवासहीनो को ऐसी अधिभोग की भूमि के पट्टे की पात्रता होगी जिनका इस पते का राशर्न कार्ड बना हुआ हो। राशन कार्ड नहीं होने पर अन्य प्रमाणिक दस्तावेजों के आधार पर सत्यापन के आधार पर पट्टा प्रदान किया जायेगा।

कलेक्टर ने प्राधिकृत आधिकारी को निर्धारित प्रारूप में रजिस्टर तथा अधिभोग के अधीन भूखण्ड को दर्शाने वाली स्थल के संबंध में कार्ययोजना तैयार कर संबंधित क्षेत्र में स्थित झुग्गी बस्तियों की सूची तैयार करने तथा झुग्गी बस्तियों के व्यपक सर्वेक्षण हेतु सर्वेक्षण कार्यवाही 30 अक्टूबर तक पूर्ण करने के निर्देश दिये।
इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  कुलदीप शर्मा, अपर कलेक्टर   अमृतलाल ध्रुव, सहायक कलेक्टर  अभिषेक शर्मा सहित अन्य जिला अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *