रायपुर।  राज्य सभा सांसद राम विचार नेताम ने आज शून्य काल में अंबिकापुर-पत्थल गाँव राष्ट्रिय राज्य मार्ग की जर्जर हालत के विषय को सदन में मुद्दा उठाया है उन्होंने बताया की 2016 में शुरू हुई यह परियोजन आज तक पूरी नहीं हो पाई है  जिसकी वजह से ग्रामीणों और आस पास के लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है.यह परियोजना 96 किमी की लंबी सड़क है जिसकी लागत 450 करोड़ की है.इस मार्ग को बनाने वाली कमानी डिफाल्टर हो गई है. नेताम ने इस विषय को सदन में उठाते हुए. राष्ट्रिय राज्य मार्ग केंद्री मंत्री से जल्द ही बनवाने की मांग की है

यह राष्ट्रीय राजमार्ग ओडिशा से दिल्ली को जोड़ता है और व्यावसायिक दृष्टि से इस मार्ग पर काफी व्यस्तता रहती है. इस मार्ग को बनाने वाली कंपनी डिफाल्टर हो गई और परियोजना आज तक पूर्ण नहीं हो सकी है. जिसके चलते इस मार्ग पर काफी लम्बा जाम होता और बारिश के समय इस मार्ग पर चलना बिल्कुल ही संभव नहीं है. इसके साथ ही NH343 पर अंबिकापुर से गढ़वा की बिच की सड़क भी पूरी तरह क्षतिग्रस्त है. यह मार्ग नक्सल प्रभावित क्षेत्र से गुजरती है और यह मार्ग महाराष्ट्र से बिहार को जोड़ता है. इस मार्ग पर अंबिकापुर से रामानुजगंज तक 110 किलोमीटर का सड़क निर्माण करना अति आवश्यक है.

नेताम ने आगे कहा की इन मार्ग की हालत इतनी जर्जर है कि स्थानीय लोगों को इस रोड़ को छोड़ दूसरे मार्ग से जाना पड़ता है, जो 100 किलोमीटर अतिरिक्त है. नेताम ने केंद्रीय मंत्री से आग्रह किया कि इस रोड़ को जल्द से जल्द सुगम बनाया जाए, ताकि अंबिकापुर से झारखण्ड जाने वाले यात्रियों और अंबिकापुर से जशपुर जाने वाले यात्रियों को इस परेशानी से निजात मिल सके.